ताज़ा खबर
 

केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने कहा, मैं नेता हूं रिसीव करने आए क्यों नहीं, वीसी बोले- मैं इस्तीफा दे दूंगा

बाबुल ने कहा कि राजनेता होने के साथ ही मैं एक निर्वाचित प्रतिनिधि और केंद्रीय मंत्री भी हूं। आप मुझे रिसीव करने क्यों नहीं पहुंचे। इस पर वीसी ने जवाब दिया, 'मुझे कार्यक्रम में आमंत्रित नहीं किया गया था।'

Author कोलकाता | Updated: September 20, 2019 1:29 PM
केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने वीसी सुरंजन दास से पुलिस बुलाने कहा, इस पर वीसी ने ऐसा करने से इनकार कर दिया। (फोटोः एएनआई)

जाधवपुर यूनिवर्सटी में एबीवीपी की तरफ से आयोजित कार्यक्रम में बृहस्पिवार को जमकर हंगामा हुआ। वामदल समर्थित छात्र संगठनों की तरफ से इस कार्यक्रम का बायकॉट किया गया था। एसएफआई और आइसा के सदस्य केंद्रीय मंत्री का कैंपस में आने का विरोध कर रहे थे।

इस पूरे हाइवोल्टेज ड्रामे में के दौरान केंद्रीय पर्यावरण राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो और जाधवपुर यूनिवर्सिटी के वीसी सुरंजन दास के बीच भी गर्मागम बहस हुई। बाबुल सुप्रियो ने जहां एक तरफ अपने मंत्री होने का रौब दिखाया वहीं वीसी भी नियमों का हवाला देते हुए अपने रुख पर अडिग रहे।

इससे पहले छात्रों और केंद्रीय मंत्री के बीच बवाल बढ़ने पर वीसी सुरंजन दास बीच बचाव करने पहुंचे थे। इस पर सुप्रियो ने वीसी से कहा कि जब वह (मंत्री) कैंपस पहुंचे हैं तो उन्हें रिसीव करने के लिए उनके पास टाइम नहीं है। बाबुल ने कहा कि राजनेता होने के साथ ही मैं एक निर्वाचित प्रतिनिधि और केंद्रीय मंत्री भी हूं। आप मुझे रिसीव करने क्यों नहीं पहुंचे। इस पर वीसी ने जवाब दिया, ‘मुझे कार्यक्रम में आमंत्रित नहीं किया गया था।’

सुप्रियो ने कहा कि आपके कैंपस में मैं आपको आमंत्रित करुंगा। आपको यहां होना चाहिए था। आप जैसे लोगों के कारण ही पश्चिम बंगाल में अराजकता फैली हुई है। मुझे पूरा यकीन है कि आप वामपंथी हो। एक केंद्रीय मंत्री आपके यहां आ रहा है। आप चाहते हैं कि ऐसा हो। हंगामा बढ़ने पर केंद्रीय मंत्री ने वीसी से पुलिस बुलाने को कहा। इस पर नीति का हवाला देते हुए सुरंजन दास ने पुलिस बुलाने से इनकार करते हुए कहा कि पुलिस बुलाने की बजाय वह इस्तीफा देना पसंद करेंगे।

दास ने साल 2014 में कैंपस में पुलिस द्वारा छात्रों पर की गई ज्यादती का भी हवाला दिया। एक अधिकारी से हवाले से बताया गया कि वीसी की इस बात पर बाबुल सुप्रियो ने कहा, ‘तब तुम्हें इस्तीफा दे देना चाहिए।’ इस दौरान छात्रों और केंद्रीय मंत्री के बीच गतिरोध करीब एक घंटे तक चला। बाद में खबर आई की वीसी सुरंजन दास बीमार हो गए। उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में दाखिल कराया गया।

बाद में गवर्नर जगदीप धनखड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्य के मुख्य सचिव मलय कुमार डे से बातचीत की। उन्होंने इस घटना पर गंभीर चिंता व्यक्त की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories