ताज़ा खबर
 

मुझे बुरी तरह मारा, बाल खींचे, लात-घूंसे चलाए- मंत्री बाबुल सुप्रियो का छात्रों पर आरोप

केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने कहना था कि यदि आप एनआरसी पर चर्चा करना चाहते हैं तो आप कर सकते हैं। जाधवपुर यूनिवर्सिटी में यह बिल्कुल ही अप्रत्याशित है। मैंने इसकी उम्मीद नहीं की थी।

Author कोलकाता | Updated: September 20, 2019 9:21 AM
(फोटोः एएनआई)

कोलकाता के जाधवपुर यूनिवर्सिटी में एबीवीपी के कार्यक्रम में जमकर हंगामा हुआ। वामपंथी छात्र संगठन स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया (SFI) और ऑल इंडिया स्टूडेंट एसोसिशन (AISA) के छात्रों ने भाजपा सांसद और केंद्रीय पर्यावरण राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो के कार्यक्रम में शामिल होने का विरोध किया।

विरोध प्रदर्शन के दौरान छात्रों ने केंद्रीय मंत्री को काले झंडे दिखाए। छात्रों ने बाबुल सुप्रियो का घेराव किया। छात्रों और केंद्रीय मंत्री के बीच धक्कामुक्की भी हुई। इस बीच केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मुझे बुरी तरह मारा गया, मेरे बाल खींचे व लात-घूंसे चलाए गए। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यदि किसी को कोई समस्या है तो वह आएं और मेरे साथ इस मुद्दे पर चर्चा करे। उन्हें मुझे मारना नहीं चाहिए।

वह लोग मुझे कहीं भी जाने से नहीं रोक सकते हैं। सुप्रियो ने कहा कि यदि आप एनआरसी पर चर्चा करना चाहते हैं तो आप कर सकते हैं। जाधवपुर यूनिवर्सिटी में यह बिल्कुल ही अप्रत्याशित है। मैंने इसकी उम्मीद नहीं की थी। बाबुल ने पत्रकारों से कहा कि यह इस राज्य के शिक्षा व्यवस्था का हाल है। इससे पहले वामंपथी छात्र संगठन के छात्रों के साथ कहा सुनी होने के बावजूद केंद्रीय मंत्री ने कैंपस छोड़ने से इनकार कर दिया।

विरोध को लेकर भाजपा सांसद ने प्रदर्शनकारी छात्रों से कहा कि यह आपकी समस्या है। मौखिक विरोध के साथ लोकतंत्र अच्छा है लेकिन यहां आप मुझे बोलने नहीं दे रहे हैं। सुप्रियो ने कहा कि मैंने 1989 में भी यहां परफॉर्म किया था। जाधवपुर तो ऐसा नहीं था। इससे पहले जैसे ही सुप्रियो अपनी कार से उतरे छात्रों ने उन्हें घेर लिया और नारेबाजी करने लगे। उन्होंने प्रदर्शनकारी छात्रों से बात करने की भी कोशिश की।

सुप्रियो के उतरने के बाद हाल ही में एबीवीपी में शामिल हुईं फैशन डिजाइनर अग्निमित्रा पॉल उनकी अगुवाई के लिए पहुंची। उन्होंने विरोध कर रहे छात्रों द्वारा कथित रूप से उनका रास्ता रोके जाने और साड़ी खींचे जाने की बात कही।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories