ताज़ा खबर
 

नहीं रहे बीजेपी के ‘संकटमोचक’ अनंत कुमार, कैंसर से जूझ रहे थे

Ananth Kumar News: पार्टी कार्यालय के बयान में कहा गया, "कुमार का निधन कैंसर और संक्रमण के बाद पैदा हुई जटिलताओं से हुआ। वह बीते कुछ दिनों से वेंटिलेटर पर थे।"

Author Updated: November 12, 2018 10:49 AM
केंद्रीय अनंत कुमार का 59 साल की उम्र में निधन हो गया।

Ananth Kumar News: केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता अनंत कुमार सोमवार तड़के नहीं रहे। कर्नाटक के बेंगलुरू स्थित निजी अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली। वह 59 वर्ष के थे और बीते कुछ महीनों से फेफड़े के कैंसर से पीड़ित थे। शंकर अस्पताल के निदेशक नागराज ने पीटीआई से कहा कि कुमार ने तड़के दो बजे आखिरी सांस ली। अस्पताल में तब पत्नी तेजस्विनी और दोनों बेटियां भी वहां थीं। कुमार, अमेरिका और ब्रिटेन में इलाज कराने के बाद हाल ही में बेंगलुरु लौटे थे, जहां शंकर अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। बीजेपी सूत्रों के मुताबिक, सुबह आठ बजे तक उनका पार्थिव शरीर घर पर रखा गया, जिसके बाद उसे अंतिम श्रद्धांजलि के लिए नेशनल कॉलेज ग्राउंड में रखा गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मंगलवार (13 नवंबर) को बेंगलुरू में उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा। उनके गुजरने के बाद कर्नाटक में तीन दिवसीय शोक की घोषणा और सोमवार को छुट्टी का ऐलान किया गया। वहीं, गृह मंत्रालय की ओर से भी बताया गया कि उनके निधन को लेकर सोमवार को देश भर के सरकारी दफ्तरों और संस्थाओं पर तिरंगा आधा झुका रहेगा।

पार्टी कार्यालय के बयान में कहा गया, “कुमार का निधन कैंसर और संक्रमण के बाद पैदा हुई जटिलताओं से हुआ। वह बीते कुछ दिनों से वेंटिलेटर पर थे।” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, केंद्रीय मंत्री व शीर्ष बीजेपी नेता समेत मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी और अन्य ने उनके गुजरने पर खेद प्रकट किया।

आपको बता दें कि वह वाजपेयी सरकार में भी कबीना मंत्री रहे थे। वह इसके अलावा छह बार दक्षिण बेंगलुरु सीट से सांसद रहे। उन्होंने इसी के साथ कर्नाटक में बीजेपी को उभारने में अहम भूमिका निभाई। 2014 में केंद्र में बीजेपी की सरकार आने के बाद वह केंद्रीय रसायन-उर्वरक मंत्री बने। आगे 2016 में उन्हें संसदीय कार्यमंत्री बनाया गया।

कुमार का जन्म 22 जुलाई 1959 को बेंगलुरु में हुआ था। उन्होंने केएस आर्ट्स कॉलेज से बी.ए. किया था। इसके बाद जे.एस.एस लॉ कॉलेज से उन्होंने एल.एल.बी की पढ़ाई पूरी की। उनके परिवार में पत्नी तेजस्विनी हैं और उनकी दो बेटियां ऐश्वर्या और विजेता हैं। मूलरूप से दक्षित भारत से नाता रखने वाले अनंत कुमार उत्तर भारत में भी खासा लोकप्रिय थे। 2014 के लोकसभा चुनावों और 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में उन्होंने ताबड़तोड़ रैलियां कर अपनी सक्रिय भूमिका दिखाई। पार्टी के कई नेता उन्हें इसी वजह से ट्रबल शूटर कहा करते थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 कालका-शिमला ट्रेन में पर्यटक बैठे-बैठे लें प्राकृतिक सुंदरता का आनंद, बोगी में किए गए खास बदलाव
2 अल्कोहल लेकर विमान उड़ाने पहुंचे थे एयर इंडिया के सीनियर पायलट, टेस्ट में दोबारा पकड़े गए
3 मशहूर इतिहासकार ने कहा- फ़ारसी मूल का है अमित शाह का नाम, बीजेपी पहले उसे बदले