ताज़ा खबर
 

मोदी सरकार के मंत्री प्रोफेसर रहे सांसद से लेंगे ट्यूशन, सीखेंगे अंग्रेजी!

मंत्री ने लोकसभा में कहा कि यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन ने प्रीडैटरी जर्नल्स और तय मानकों के विपरीत प्रकाशित किए जा रहे जर्नल्स की समस्या की पहचान की है।

केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह और मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर।

लोकसभा में आज (23 जुलाई) अंग्रेजी के एक शब्द के इस्तेमाल को लेकर अलग-अलग राय होने पर मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बड़ी नम्रता से तृणमूल कांग्रस के वरिष्ठ सांसद प्रोफेसर सौगत रॉय से कहा कि ‘मैं आपसे ट्यूशन लूंगा।’’ दरअसल, सदन में प्रश्नकाल के दौरान मंत्री ने शैक्षणिक पत्रिकाओं से जुड़े पूरक प्रश्नों का उत्तर देते हुए यह टिप्पणी की। जावड़ेकर ने कहा कि ‘प्रीडैटरी एकैडमिक जर्नल्स’ के संदर्भ में कदम उठाए जा रहे हैं। इस पर टीएमसी सांसद सौगत रॉय ने ‘प्रीडैटरी जर्नल्स’ शब्द के उपयोग पर अपत्ति जताई और कहा कि यह अंग्रेजी भाषा का विकृत उपयोग है। इस पर मंत्री ने कहा, ‘‘मैं आपसे ट्यूशन लूंगा… मुझे कुछ शब्द बताइएगा।’’ मंत्री के यह कहते ही सदन में कई सदस्य हंस पड़े।

बता दें कि प्रोफेसर सौगत रॉय मनमोहन सिंह की यूपीए-2 सरकार में शहरी विकास राज्य मंत्री रह चुके हैं। इससे पहले चौधरी चरण सिंह की सरकार में भी वो पेट्रोलियम राज्य मंत्री का पद संभाल चुके हैं। प्रोफेसर रॉय कलकता के आसुतोष कॉलेज में फिजिक्स के प्रोफेसर भी रह चुके हैं। फिलहाल वो कोलकाता के दमदम लोकसभा क्षेत्र से टीएमसी के सांसद हैं। पश्चिम बंगाल विधान सभा में भी वो पांच बार विधायक रहे हैं।

इस बीच, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सभी विश्वविद्यालयों से 30 अगस्त तक सभी सिफारिश किए गए जर्नल्स की सूची की समीक्षा करने को कहा है। मंत्री ने लोकसभा में कहा कि यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन ने प्रीडैटरी जर्नल्स और तय मानकों के विपरीत प्रकाशित किए जा रहे जर्नल्स की समस्या की पहचान की है। उन्होंने मीडिया में आई उन खबरों, जिनमें कहा गया था कि इन जर्नल्स में कुछ पैसे देकर सब स्टैंडर्ड आर्टिकल्स भी छपवाए जा सकते हैं, पर कहा कि यूनुवर्सिटीज को इस बारे में कार्रवाई करने को कहा गया है। मंत्री ने यह भी बताया कि यूजीसी के स्टैंडिंग कमेटी ने पिछले दिनों 4102 सब स्टैंडर्ड जर्नल्स को लिस्ट से हटा दिया है।

(भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App