ताज़ा खबर
 

UN ने कहा- भारत ने दूर की 10 साल में 27 करोड़ लोगों की गरीबी, तेजी से हो रहा यह काम

एमपीआई 2019 की जारी रिपोर्ट के अनुसार 2005-06 से 2015-16 के बीच भारत ने 27.1 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकाला है। एमपीआई रिपोर्ट में 101 देशों के मूल्यांकन को शामिल किया गया है।

Author नई दिल्ली | July 12, 2019 7:47 AM
झारखंड का एक गरीबी रेखा के नीचे का परिवार।(प्रतीकात्मक तस्वीर)

भारत गरीबी में महत्वपूर्ण से कमी करने वाले दुनिया के शीर्ष 10 देशों में शामिल है। यह बात मल्टीडायमेंशनल पोवर्टी इन्डेक्स (एमपीआई) 2019 की रिपोर्ट में सामने आई है। यह रिपोर्ट बृहस्पतिवार को जारी की गई। रिपोर्ट में गरीबी के पैमाने और तीव्रता को शामिल किया गया है।

इस रिपोर्ट को ऑक्सफोर्ड पोवर्टी एंड ह्यूमन डेवलपमेंट इनिशिएटिव (ओपीएचआई) और यूनाइटेड नेशन डेवलपमेंट प्रोगाम ने मिलकर तैयार किया है। रिपोर्ट के अनुसार भारत ने साल 2005-06 से 2015-16 के बीच 27.1 करोड़ लोगों की गरीबी से बाहर निकाला है। इनमें से भी झारखंड ऐसा राज्य है जहां गरीबी सबसे तेजी से कम हुई है।

गरीबी को कम करने को 10 मानकों के जरिये मापा गया है। इसमें संपत्ति, खाना पकाने का ईंधन, स्वच्छता और पोषण जैसे पैमाने भी शामिल हैं। वैश्विक एमपीआई में 101 देशों स्वास्थ्य, शिक्षा और जीवन का स्तर की कमी को भी ध्यान में रखा गया है। रिपोर्ट कहती है कि एमपीआई मानकों में कमी के मामले में भारत ने स्पष्ट रूप से गरीबोन्मुखी पैटर्न अपनाया है। झारखंड ऐसा राज्य है जहां 2005-06 से लेकर 2015-16 तक गरीबी 74.9 फीसदी से कम होकर 46.5 फीसदी रह गई है।

भारत के चार राज्यों बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में सबसे अधिक एमपीआई है। झारखंड में इनमें से सबसे बेहतरीन प्रदर्शन किया है। कुल मिलाकर भारत उन तीन देशों में शामिल है जहां ग्रामीण क्षेत्रों में गरीबी में कमी ने शहरी क्षेत्रों में गरीबी में कमी को पीछे छोड़ दिया है। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे के तीसरे और चौथे राउंड की रिपोर्ट ही मानकों के तुलनात्मक आंकड़ों का आधार है।

रिपोर्ट कहती है कि इस अवधि में भारत ने अपने यहां गरीबी को 55.1 फीसदी के घटाकर 27.9 फीसदी, करीब आधा कर दिया है। भारत ने करीब 27.1 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकाला है। पहले गरीब लोगों की संख्या 64 करोड़ थी जो अब 36.9 करोड़ रह गई है।

यूएनडीपी के इंडिया रेजिडेंट रिप्रेंजेटेटिव शोको नोडा कहते हैं, ‘एमपीआई में भारत की बड़ी तरक्की दर्ज की गई है। भारत ने देशभर में मल्टीडाइमेंशन गरीबी दूर करने में सफलता पाई है।’ भारत के अलावा गरीबी कम करने वाले दुनिया के शीर्ष -10 में शामिल अन्य देश पेरू, बांग्लादेश, कंबोडिया, नाइजीरिया, पाकिस्तान, वियतनाम, कांगो गणराज्य, इथोपिया और हैती हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App