2जी के दस्तावेज मिटाने के लिए सीबीआई मुख्यालय को निशाना बनाने की तैयारी में दाऊद इब्राहिम! - Under world don Dawood Ibrahim planning to attack cbi headquarter in delhi to destroy papers related to 2g scam - Jansatta
ताज़ा खबर
 

2जी के दस्तावेज मिटाने के लिए सीबीआई मुख्यालय को निशाना बनाने की तैयारी में दाऊद इब्राहिम!

सीबीआई ने इस संभावित खतरे की सूचना गृह मंत्रालय और एनआईए को भी दे दी है। सूत्रों के मुताबिक तीन सप्ताह पहले सीबीआई को बताया गया कि दाऊद इब्राहिम से जुड़े गैंग एजेंसी के मुख्यालय को निशाना बना सकते हैं।

दाऊद इब्राहिम भारत का मोस्ट वांटेड आतंकी है।

पाकिस्तान में छिपा भगोड़ा आतंकी दाऊद इब्राहिम देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई को निशाना बनाने की फिराक में है। सूत्रों के मुताबिक डी कंपनी सीबीआई मुख्यालय पर हमला करना चाहती है कि 2 जी स्पेक्ट्रम घोटाले से जुड़े सभी दस्तावेजों को नष्ट कर दिया जाए। अंग्रेजी चैनल टाइम्स नाउ की रिपोर्ट के मुताबिक ये जानकारी सीबीआई के सूत्रों ने दी है। मुंबई में बैठे सीबीआई के अफसरों ने यह जानकारी केस की जांच कर रहे अधिकारियों को सौंप दी है। रिपोर्ट्स के मुताबिक इस जानकारी के मुताबिक दिल्ली स्थित सीबीआई हेडक्वार्टर की सुरक्षा और भी बढ़ा दी गई है। माना जाता है कि इस स्थान पर सीबीआई ने 2जी घोटाले से जुड़े दस्तावेज रखे हैं। सीबीआई ने इस संभावित खतरे की सूचना गृह मंत्रालय और एनआईए को भी दे दी है। सूत्रों के मुताबिक तीन सप्ताह पहले सीबीआई को बताया गया कि दाऊद इब्राहिम से जुड़े गैंग एजेंसी के मुख्यालय को निशाना बना सकते हैं।

बता दें कि एक लाख 76 हजार करोड़ के 2जी घोटाले में सीबीआई के पास कागजों और अहम दस्तावेजों का पुलिंदा इकट्ठा हो गया है। इन्हें संभालकर रखना सीबीआई के लिए चुनौती के समान है। इस खुफिया सूचना के आने के बाद सीबीआई की सभी शाखाओं में अलर्ट घोषित कर दिया दया है और जांच टीम को सतर्क रहने को कहा गया है। बता दें कि 2 केस के कई आरोपियों के लिंक विदेशों तक फैले हैं। खुफिया एजेंसियों को शक है कि कई आरोपियों के तार आतंकी दाऊद इब्राहिम के साथ भी हैं।

इधर गुरुवार (21 दिसंबर) को 2जी मामले में दिल्ली की एक विशेष अदालत ने पूर्व दूरसंचार मंत्री ए. राजा और द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (द्रमुक) की कनिमोझी समेत अन्य आरोपियों को बरी कर दिया। इस मामले में तत्कालीन संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन(संप्रग) सरकार को भारी राजनीतिक कीमत चुकानी पड़ी थी और 2014 संसदीय चुनाव में बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा था। 2जी मामले में पूर्व दूरसंचार मंत्री ए. राजा को क्लीन चिट देते हुए विशेष न्यायाधीश ओ.पी.सैनी ने कहा, “ऐसे कोई साक्ष्य नहीं मिले हैं जिससे यह साबित हो कि वह इस षड्यंत्र में शामिल था।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App