ताज़ा खबर
 

दिल्ली में हालात बेकाबू! मेट्रो-इंटरनेट सेवा बंद, अमित शाह ने बुलाई अहम बैठक; एक्शन की तैयारी में सरकार

दिल्ली में आज ट्रैक्टर परेड के दौरान हुए हंगामे के बाद इंटरनेट और मेट्रो सेवा पर अस्थायी रोक लगाई गई है।

amit shahगृह मंत्री अमित शाह।

दिल्ली में आज ट्रैक्टर परेड के दौरान हुए हंगामे के बाद इंटरनेट और मेट्रो सेवा पर अस्थायी रोक लगाई गई है। साथ ही साथ मामले पर गृह मंत्रालय में अहम बैठक चल रही है। किसानों की आज की परेड के दौरान जो कुछ हुआ सरकार उसको लेकर एक्शन में आ गई है। दिल्ली पुलिस ने किसानों पर कार्रवाई शुरू कर दी है। उपद्रव मचाने वालों के खिलाफ दिल्ली के अलग अलग थानों में मामला दर्ज करने की तैयारी की जा रही है। ये जानकारी सूत्रों से मिली है। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने गृह मंत्री शाह को दिल्ली के हालात की जानकारी दी। उन्होंने अमित शाह को बताया कि कहां किसानों की परेड हिंसक हो गई।

दिल्ली में अतिरिक्त अर्धसैनिक बल तैनात किए गए हैं। आज गृह मंत्री अमित शाह के साथ मीटिंग में गृह सचिव के अलावा दिल्ली के पुलिस कमिश्नर भी मौजूद रहे। अधिकारियों ने गृह मंत्री को दिल्ली की सुरक्षा व्यवस्था की जानकारी दी। दिल्ली पुलिस कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव ने बताया कि परेड का समय और रूट किसानों से बातचीत करके ही तय किया गया था पर कुछ किसान रूट से दूसरी जगह जाने लगे। जिसके चलते पुलिस के साथ उनकी झड़प हुई। दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमिश्नर ऑफ पुलिस आलोक कुमार ने बताया कि पुलिसकर्मियों पर हमला करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

सरकार वीडियो फुटेज के आधार पर उपद्रव करने वालों पर कार्रवाई करेगी। लाल किले पर झंडे को लेकर जो कुछ हुआ उससे सरकार नाराज है। माना जा रहा है कि इस दिशा में पुलिस कुछ प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार भी कर सकती है। दिल्ली एनसीआर में कुछ जगहों पर सरकार ने इंटरनेट सेवा अस्थायी तौर पर रोक दी है। किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए समयपुर बादली, रोहिणी सेक्टर 18/19, हैदरपुर बादली मोड़,जहाँगीर पुरी, आदर्श नगर, आज़ादपुर, मॉडल टाउन, जीटीबी नगर, विश्व विद्यालय, विधानसभा और सिविल लाइंस मेट्रो स्टेशन बंद करने पड़े। इंद्रप्रस्थ मेट्रो स्टेशन और ग्रीन लाइन पर सभी स्टेशन बंद रहे।

इससे पहले आज सुबह किसानों ने पुलिस के लगाए बैरिकेड तोड़ दिए। पुलिस के साथ झड़प के बाद किसान दिल्ली में दाखिल हो गए। किसानों की आज ट्रैक्टर परेड होनी थी। हालांकि इस बीच पुलिस ने प्रदर्शनकारी किसानों पर लाठीचार्ज भी किया और आंसू गैस के गोले भी छोड़े। दरअसल प्रस्तावित समय से पहले ही किसानों ने परेड करना शुरू कर दिया। कई जगह तो किसान तय रूट से भटक गए। जिसके बाद पुलिस के साथ गहमागहमी बढ़ गई।

इस हंगामे के बीच आईटीओ में एक किसान की जान चली गई। संयुक्त किसान मोर्चे ने मामले पर कहा,”आज की किसान गणतंत्र दिवस परेड में भागीदारी के लिए हम किसानों को धन्यवाद देते हैं। हम उन अवांछनीय और अस्वीकार्य घटनाओं की भी निंदा करते हैं और खेद प्रकट करते हैं जो आज हुई हैं और इस तरह के कृत्यों में लिप्त होने वाले लोगों से खुद को अलग कर लेते हैं। “असामाजिक तत्वों” ने शांतिपूर्ण आंदोलन में घुसपैठ की थी।”

आज जहां देश अपना 72 वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। किसानों को भी दिल्ली में परेड करने की इजाजत दी गई थी। हालांकि सुबह 8 बजे से ही दिल्ली की सीमा पर भीड़ जुटने लगी थी। प्रदर्शनकारियों को रोकने के दौरान कई पुलिसकर्मी घायल भी हो गए।

सिंघू सीमा पर किसान बैरिकेड तोड़ते नजर आए। हजारों की संख्या में किसानों पर पुलिस को आंसू गैस छोड़नी पड़ी। कई जगह तो पुलिस पर प्रदर्शकारियों द्वारा पथराव भी किया गया।

दोपहर तक कई किसान लाल किला पहुंच गए। हैरान कर देने वाली तस्वीरों में प्रदर्शकारी प्राचीर पर झंडा फहराते दिखे। प्रदर्शनकारियों ने ठीक उस जगह झंडा फहराया जहां पीएम 15 अगस्त को फहराते हैं।

 

Next Stories
1 जो रूट दिए उस पर भी बैरिकेडिंग कर दी, दिल्ली हिंसा पर बोले राकेश टिकैत- इसके लिए पुलिस जिम्मेदार
2 दिल्ली दंगों में सुर्खियों में रहे कपिल मिश्रा किसानों के ऐसे प्रदर्शनों पर नाराज, बोले- योगेन्द्र यादव और राकेश टिकैत को जेल में डालो
3 महिला पुलिसकर्मी पर हमला कर रहे प्रदर्शनकारी ‘किसान’, साथी ने किसी तरह बचाया; वायरल हो रहा वीडियो
ये पढ़ा क्या?
X