ताज़ा खबर
 

उमा भारती ने दी चुनौती- महात्मा गांधी की समाधि पर लिखा राम मिटा कर दिखाए बसपा

उमा भारती ने कहा कि अगर मायावती, ममता बनर्जी या सोनिया गांधी में से किसी को भी ये लगता है कि राम के नाम से राजनीति हुई है तो महात्मा गांधी की समाधि पर 'हे राम' लिखा है, वो उसको मिटाकर दिखाएं।

केंद्रीय मंत्री उमा भारती। (फाइल फोटो)

भीमराव आंबेडकर के नाम परिवर्तन पर शुरू हुई राजनीति अभी थमने का नाम नहीं ले रही है। अब केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने इस मुद्दे पर अपनी राय व्यक्त की है। उमा का कहना है कि अगर मायावती, ममता बनर्जी या सोनिया गांधी में से किसी को भी ये लगता है कि राम के नाम से राजनीति हुई है तो महात्मा गांधी की समाधि पर ‘हे राम’ लिखा है, वो उसको मिटाकर दिखाएं। दरअसल उमा उस वक्त भड़क उठीं जब उनसे कहा गया कि भाजपा राम के नाम पर सियासत करती है। और उन्होंने मायावती, ममता बनर्जी और सोनिया गांधी को उपरोक्त चुनौती दे डाली। उमा भारती ने यह बयान मध्य प्रदेश के सागर जिले में एक कार्यक्रम के दौरान दिया है। वह सागर में अल्प प्रवास पर आई हुई हैं।

दरअसल हाल ही में यूपी सरकार ने एक अधिसूचना जारी करके बाबा साहेब का नाम डॉक्टर भीमराव रामजी आंबेडकर रखने की बात की है। जब यही सवाल उमा भारती से किया गया तो उनका जवाव था कि भीमराव आंबेडकर जी के पिता जी का नाम राम जी था और इस बात को छिपाकर रखा गया। बसपा और कांग्रेस ने भी इसे जनता से छिपाकर रखा जिसकी मैं घोर निंदा करती हूं। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब के पिता के नाम के साथ राम का नाम जुड़ा हुआ है। अगर मायावती, ममता बनर्जी को और सोनिया को किसी को भी ये लगता है कि राम के नाम से राजनीति हुई है तो महात्मा गांधी की समाधि में ‘हे राम’ लिखा हुआ है तो वो उसको मिटाकर दिखाएं।

मध्य प्रदेश के विधान सभा चुनाव के सवाल पर उन्होंने कहा कि अब मैं इन विषयों में नहीं पडूंगीं। ना ही इसमें मेरी रुचि है और ना ही मैं रुचि लेने वाली हूं। मैं सिर्फ तीन चीजों में रुचि ले रही हूं। नंबर एक गंगा जी, नंबर दो ललितपुर-झांसी और नंबर तीन अपना मंत्रालय। इसके अलावा मेरी किसी भी विषय में रुचि नहीं है। आने वाले विधान सभा चुनावों में खुद की भूमिका के सवाल पर उन्होंने कहा कि जो अमित शाह जी मुझे कह देंगे, मैं वही करूंगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App