scorecardresearch

उदयपुर में टेलर की निर्मम हत्‍या: अशोक गहलोत के मंत्री मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास बोले- ऐसे वीडियो डालने वाले समझ लें, ठोक कर मारेंगे, हत्यारों को चार दिन में फांसी पर दो

नूपुर शर्मा के मामले में प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि अगर नूपुर शर्मा ने गलती की है तो उसमें सजा कानून देगा, किसी को हत्या करने का अधिकार नहीं है।

Kanhaiya lal murder rajasathan
उदयपुर में टेलर कन्हैयालाल की मंगलवार को हत्या कर दी गई(फोटो सोर्स: सोशल मीडिया)।

राजस्थान के उदयपुर में मंगलवार को कन्हैया लाल साहू की हत्या के बाद देशभर में आक्रोश है। इसको लेकर राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार में कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने बुधवार को बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि वारदात का वीडियो देखकर मैं गुस्से से उबल रहा हूं। हत्या करने वालों को तुरंत ठोक देना चाहिए। चार दिन के अंदर इन्हें फांसी पर लटकाया जाना चाहिए।

प्रताप सिंह खाचरियावास ने एक निजी न्यूज चैनल से बात करते हुए कहा, “इस तरह हत्या करना पूरे देश को चुनौती देने जैसा है। इस तरह से हत्या करके वीडियो डालकर चुनौती देने वाले सुन लें, जो दिमागी रूप से पागल लोग हैं, उनके ठोककर मारेंगे। वीडियो देखकर मेरा खुद खून खौल गया। देश में तालिबानी संस्कृति नहीं चल सकती। यह तालिबान नहीं है।”

खाचरियावास ने कहा कि अगर ऐसे लोगों की मां ने दूध पिलाया है तो सामने से लड़ें, ढंग के किसी आदमी से। निहत्थे आदमी से नहीं। ऐसे छिपकर तो कोई भी किसी को मार दे। उन्होंने कहा कि केंद्र हो या राज्य दोनों को मिलकर इस तरह के मामलों की तह में जाकर ऐसे लोगों को ठोकना होगा।

किसी को हत्या करने का अधिकार नहीं: नूपुर शर्मा के मामले में उन्होंने कहा कि अगर नूपुर शर्मा ने गलती की है तो उसमें सजा कानून देगा, किसी को हत्या करने का अधिकार नहीं है। हिंदुस्तान में धर्म, जाति के नाम पर किसी हत्या करने का हक नहीं है।

बता दें कि खाचरियावास ने 28 जून को भी एक ट्वीट में इस तरह की हत्या को महापाप बताया था। उन्होंने लिखा था, “एक निहत्थे व्यक्ति पर धोखे से चाकू मारकर हत्या करना महापाप है, धर्म कायरता और धोखा नही सिखाता हत्या करने वालों को जब पुलिस ठोक के मारेगी तब दर्द का पता चलेगा। अपराधी कोई भी हो उसको फांसी पर लटकाना और क़ानून की ताक़त का एहसास कराना ज़रूरी है।”

गौरतलब है कि 28 जून की शाम राजस्थान के उदयपुर में कन्हैया लाल साहू की हत्या कर दी गई। कन्हैया लाल दर्जी का काम करते थे। मंगलवार की शाम उनकी दुकान पर आरोपी रियाज और गौस मोहम्मद पहुंचे थे। दुकान पर थोड़ी देर बात करने के बाद उन्होंने धारदार हथियार से कन्हैया लाल की हत्या कर दी।

बता दें कि दोनों को राजसमंद से गिरफ्तार कर लिया गया है। दोनों आरोपी उदयपुर के सूरजपोल क्षेत्र के निवासी हैं। हत्या के बाद राज्य में तनाव की स्थिति है। इस बीच गहलोत सरकार ने पीड़ित परिवार को 31 लाख रुपये का मुआवजा और मृतक के दोनों बेटों को संविदा पर नौकरी देने का आश्वासन दिया है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X