ताज़ा खबर
 

दिल्ली के लिए वायुसेना की दो स्तरीय सुरक्षा छतरी

देश की राजधानी दिल्ली के लिए वायुसेना ने दो स्तरीय सुरक्षा घेरा तैयार करने की योजना को अंतिम रूप दे दिया है।

Author Published on: November 10, 2017 2:06 AM
IAF’s AN-32 की तस्वीर (FILE PIC)

दीपक रस्तोगी
देश की राजधानी दिल्ली के लिए वायुसेना ने दो स्तरीय सुरक्षा घेरा तैयार करने की योजना को अंतिम रूप दे दिया है। महत्त्वपूर्ण इलाकों और इमारतों की सुरक्षा के लिए भारतीय वायुसेना दो स्तरीय सुरक्षा प्रणाली लगाएगी। इसके तहत लड़ाकू विमानों, ड्रोन, हेलीकॉप्टर हमले के साथ ही क्रूज मिसाइलों के हमले 25 से चार सौ किलोमीटर के दायरे में नाकाम कर दिए जाएंगे। दिल्ली में वायु रक्षा प्रणाली एस-400 लगाई जाएगी, जिसे रूस से खरीदने की योजना अंतिम दौर में है। पूरी योजना का मसौदा रक्षा मंत्री की अध्यक्षता वाली रक्षा खरीद परिषद (डीएसी) को भेजा जा चुका है। इस पर डीएसी की अगले पखवाड़े होने वाली बैठक में फैसला होने के आसार हैं। दिल्ली के अलावा मुंबई को लेकर भी विशेष सतर्कता है।

दिल्ली में लगाई जा रही वायु रक्षा प्रणाली के तहत क्रूज मिसाइलों को 25 किलोमीटर पहले ही मार गिराया जाएगा। विफल होने पर मिसाइलों को हवा में ही पांच से छह किलोमीटर (18 हजार फीट) के दायरे में मार गिराया जाएगा। इस प्रणाली को राष्ट्रपति भवन, संसद जैसे महत्त्वपूर्ण ठिकानों पर लगाया जाएगा। वायुसेना कमांडरों की बैठक में इस आशय की योजना को अंतिम रूप दिया गया। अधिकारियों के अनुसार, हमारे देश के पास स्वदेशी वायु रक्षा प्रणाली आकाश है। हालांकि, कई देशों के साथ मिलकर डीआडीओ ऐसी परियोजना पर काम कर रहा है, जिसमें 25 किलोमीटर की ऊंचाई पर मिसाइल मार गिराने में सफलता न मिले तो पांच से छह किलोमीटर के दायरे में जरूर मार गिराया जाए। इसके अलावा दुश्मन की मिसाइल के बारे में चार सौ किलोमीटर की दूरी से पहले ही सतर्क करने वाली प्रणाली को तैनात किया जाएगा। वायु रक्षा प्रणाली- एस 400 को रूस से खरीदा जा रहा है।

वायुसेना ने इस प्रणाली- एस 400 का परीक्षण कर लिया है। इस प्रणाली की खरीद पर 38 हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे। साथ ही, स्वदेश में बैलिस्टिक मिसाइल कवच प्रणाली पर भी काम चल रहा है। इस प्रणाली को दिल्ली के साथ ही मुंबई में भी तैनात किया जाएगा। डीआरडीओ की इस परियोजना के तहत लंबी दूरी से आने वाले मिसाइलों (जैसे 2000 किमी और उससे ज्यादा या 30 से 120 किमी की ऊंचाई) को रोका जाएगा।
सीमा पर वायुसेना ने स्पाइडर एयर डिफेंस सिस्टम (एसएडीएस) को पाकिस्तान से लगने वाली सीमा पर तैनात कर रखा है। इस प्रणाली के तहत किसी भी वायुयान, क्रूज मिसाइल, जासूसी विमान या फिर ड्रोन की पहचान कर ली जा रही है, जो भारत के वायुसीमा का उल्लंघन करते हैं। पाकिस्तान से लगती पश्चिमी सीमा पर तैनात स्पाइडर प्रणाली को इजराइल की मदद से लगाया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 NHRC का केंद्र, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा सरकारों को नोटिस, कहा- आप नागरिकों को मरने के लिए नहीं छोड़ सकते
2 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी, क्‍या आप नोटबंदी के लिए देश से माफी मांगने को तैयार हैं? : प्रकाश राज
3 चैनल का दावा- नोटबंदी के बाद मायावती, मीसा भारती ने ठिकाने लगाए थे करोड़ों रुपए, ईडी की ल‍िस्‍ट में और कई नाम