जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में सेना के जवानों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़, जेसीओ सहित दो सैन्यकर्मी शहीद

रक्षा विभाग के प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए कहा कि बृहस्पतिवार शाम को एक आतंकवाद रोधी अभियान में जेसीओ और एक जवान गंभीर रूप से घायल हो गए थे। बाद में दोनों की मौत हो गई। साथ ही उन्होंने कहा कि ऑपरेशन अब भी जारी है।

Jammu & Kashmir, Mehbooba Mufti, PDP Chief, CDS Bipin Rawat, PM Modi
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

गुरुवार को जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच हुई मुठभेड़ में एक जूनियर कमीशंड अधिकारी (जेसीओ) सहित सेना के दो सैन्य कर्मी शहीद हो गए। रक्षा अधिकारियों ने शुक्रवार को दो सैन्य कर्मियों के शहीद होने की जानकारी दी।

रक्षा विभाग के प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए कहा कि मेंढर संभाग के नार खास वन क्षेत्र में बृहस्पतिवार शाम को एक आतंकवाद रोधी अभियान में जेसीओ और एक जवान गंभीर रूप से घायल हो गए थे। बाद में दोनों की मौत हो गई। उन्होंने कहा कि ऑपरेशन अब भी जारी है। जवान का शव मुठभेड़ स्थल से निकाल लिया गया और जेसीओ का शव अभी वहां से निकाला जाना बाकी है। पहाड़ी और जंगली इलाके के कारण अभियान में मुश्किल आ रही है।

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने मंगलवार को कहा था कि पुंछ में सुरक्षाबलों पर हाल ही में हुए हमले में शामिल आतंकवादी पिछले दो से तीन महीनों से इलाके में मौजूद थे। इस हमले में एक जेसीओ सहित सेना के पांच जवान शहीद हो गए थे। राजौरी-पुंछ क्षेत्र के पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) विवेक गुप्ता ने पत्रकारों से कहा कि आतंकवादियों को घेर लिया गया है। यह समूह दो-तीन महीने से इलाके में मौजूद था।

सेना के जवानों पर हमला तब हुआ जब सेना की अलग अलग टुकड़ी पूंछ के इलाकों में आतंकियों की तलाशी के लिए अभियान चला रही थी। अंधेरा होने के बावजूद सुरक्षाबल के जवानों ने इलाके की घेराबंदी कर रखी। इस दौरान सुरक्षाबलों ने जम्मू-पूंछ सड़क मार्ग पर सभी तरह के वाहनों के आने जाने पर रोक लगा दी थी।

इस साल राजौरी और पुंछ सीमावर्ती जिलों में कई आतंकवाद रोधी अभियान चलाए गए और कई मुठभेड़ हुई हैं। पुंछ के सुरनकोट इलाके में डेरा की गली (डीकेजी) में 12 अक्टूबर को हुई एक मुठभेड़ में एक जेसीओ सहित पांच सैन्य कर्मी मारे गए थे। वहीं 12 सितंबर को राजौरी के मंजाकोट के ऊपरी इलाकों में तलाश अभियान के बाद सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में एक अज्ञात आतंकवादी मारा गया था। 19 अगस्त को राजौरी के थानामंडी इलाके में हुई मुठभेड़ में एक जेसीओ की जान चली गई थी। छह अगस्त को थानामंडी सीमवर्ती इलाके के पास हुई मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादी मारे गए थे। (जनसत्ता ऑनलाइन के साथ)

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट