ताज़ा खबर
 

कनाडा हवाई अड्डे पर हिरासत में लिए गए 2 आप विधायक! वापस लौटाए गए

आप प्रवक्ता के अनुसार, दोनों नेताओं से बातचीत होने के बाद ही साफ हो पाएगा कि उन्हें कनाडा में एंट्री क्यों नहीं दी गई? वहीं पंजाब में विपक्ष के नेता और आप विधायक सुखपाल सिंह खैरा ने मंगलवार को इस मुद्दे पर चर्चा के लिए आप विधायकों की एक बैठक बुलायी है।

Author July 23, 2018 11:55 AM
आप विधायकों को कनाडा में नहीं मिली एंट्री, एयरपोर्ट से वापस भेजा। (file photo)

रविवार को आम आदमी पार्टी के 2 विधायकों को कनाडा में घुसने से मना कर दिया गया और दोनों विधायकों को एयरपोर्ट से ही वापस भारत भेज दिया गया। खबर के अनुसार, पंजाब के कोटकापुर से आप विधायक कुलतार सिंह सांधवा और रोपड़ से आप विधायक अमरजीत सिंह संदोआ एक निजी यात्रा पर कनाडा गए थे। इस दौरान कनाडा इमीग्रेशन के अधिकारियों ने दोनों नेताओं को एयरपोर्ट पर ही हिरासत में ले लिया और उनसे पूछताछ की। पूछताछ के बाद कनाडा के अधिकारियों ने दोनों विधायकों को कनाडा में एंट्री देने से इंकार कर दिया और वापस भारत भेज दिया। खबरें आ रही हैं कि एक विधायक को इंग्लिश बोलने में समस्या थी, साथ ही पूछताछ के दौरान विधायकों ने किसी राजनैतिक बैठक का शायद जिक्र किया होगा, जिसके बाद संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर कनाडा के अधिकारियों ने दोनों विधायकों को कनाडा में एंट्री नहीं दी।

कनाडा के टोरंटो में आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता सुदीप सिंह ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में इस खबर की पुष्टि की है। सुदीप सिंह ने बताया कि जो हमें पता चला है उसके अनुसार, दोनों नेता कुलतार सिंह सांधवा की ओटावा में रहने वाली बहन के पास रुकने वाले थे। लेकिन घंटों की पूछताछ के बाद दोनों को एयरपोर्ट से ही वापस दिल्ली भेज दिया गया। आप प्रवक्ता के अनुसार, दोनों नेताओं से बातचीत होने के बाद ही साफ हो पाएगा कि उन्हें कनाडा में एंट्री क्यों नहीं दी गई? वहीं पंजाब में विपक्ष के नेता और आप विधायक सुखपाल सिंह खैरा ने मंगलवार को इस मुद्दे पर चर्चा के लिए आप विधायकों की एक बैठक बुलायी है।

गौरतलब है कि रोपड़ से विधायक अमरजीत सिंह सांदोआ हाल ही में उस वक्त चर्चा में आए थे, जब उन्होंने आरोप लगाया था कि खनन माफिया ने उन पर हमला किया है। इसके साथ ही सांदोआ पर एक महिला ने उत्पीड़न करने का भी आरोप लगाया है, जिसके लिए बीते शुक्रवार ही विधायक के खिलाफ चार्ज फ्रेम किए गए हैं। वहीं दूसरे विधायक के खिलाफ कोई आपराधिक मामला नहीं है। पंजाब की कांग्रेस सरकार ने इस मुद्दे पर आप नेतृत्व पर निशाना साधा है। कांग्रेस का आरोप है कि आम आदमी पार्टी विदेश में रहने वाले अलगाववादी सिख संगठनों के काफी ‘करीब’ है। ये अधिकतर संगठन खालिस्तान समर्थक हैं और उत्तरी अमेरिका में स्थित हैं। बीते जून में आप विधायक सुखपाल सिंह खैरा के रेफरेंडम 2020 के बयान पर भी काफी विवाद हुआ था। माना जा रहा है कि अमेरिका के एक सिख संगठन सिख फॉर जस्टिस ने रेफरेंडम 2020 नामक कैंपेन की शुरुआत की है, जिसे खैरा ने अपना समर्थन दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App