ताज़ा खबर
 

कोरोना वायरस के खतरे से बचने के लिए संसद सत्र को तुरंत रोकना चाहिए, पत्रकार के ट्वीट पर बीजेपी को ट्रोल कर रहे लोग

उमाशंकर ने रविवार को लिखा था कि कोरोना वायरस के ख़तरों को देखते हुए एहतियातन सबकुछ बंद किया जा रहा है। ये जनहित में है। इसलिए संसद के मौजूदा सत्र को भी तुरंत रोक देना चाहिए। उम्मीद है सोमवार को इस पर विचार होगा। उमाशंकर का ये ट्वीट सोमवार को सच साबित हो गया और यूजर्स बीजेपी को ट्रोल करने लगे।

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान फिर बन सकते हैं सीएम। (file photo)

मध्य प्रदेश में पिछले कुछ दिनों से चल रही राजनीतिक उठा पटक के बीच आज विधानसभा में कमलनाथ सरकार का बहुमत परीक्षण होना था। लेकिन कोरोना वायरस के चलते विधानसभा को 26 मार्च तक के लिए स्थगित कर दिया गया और फ्लोर टेस्ट नहीं हो पाया। फ्लोर टेस्ट को लेकर सोशल मीडिया में पिछले कई दिनों से कयास लगाए जा रहे थे। वरिष्ठ पत्रकार उमाशंकर सिंह ने भी इसे लेकर एक ट्वीट किया था। अब उमाशंकर का यह ट्वीट तेजी से वायरल हो रहा है और लोग बीजेपी को ट्रोल कर रहे हैं।

उमाशंकर ने रविवार को लिखा था कि कोरोना वायरस के ख़तरों को देखते हुए एहतियातन सबकुछ बंद किया जा रहा है। ये जनहित में है। इसलिए संसद के मौजूदा सत्र को भी तुरंत रोक देना चाहिए। उम्मीद है सोमवार को इस पर विचार होगा। उमाशंकर का ये ट्वीट सोमवार को सच साबित हो गया और यूजर्स बीजेपी को ट्रोल करने लगे।

एक यूजर ने लिखा “संसद सत्र खुले में होना चाहिए, सभी भाजपा मंत्री गोबर का लेप, और गौ मूत्र का सेवन करके आएँ।” वहीं एक अन्य ने लिखा ” कोरोना वायरस के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अनिश्चित काल के लिए देश में फंसे।” एक यूजर ने लिखा “कुछ दिन के लिए ट्विटर भी बंद करना चाहिए। बोहोत नफरत फैल रही है। आपके क्या विचार है सर?” एक यूजर ने लिखा “वैसे भी संसद चला कर कौन सा देश का भला कर रहे …बंद करो और गाने दो .. गो कोरोना गो।”

बता दें कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर कई विधायक अपने चेहरे पर मास्क लगाकर विधानसभा में पहुंचे थे। विधानसभा अध्यक्ष की घोषणा के अनुसार विधायकों को ये मास्क विधानसभा प्रबंधन द्वारा प्रदान किए गए थे।

गौरतलब है कि कांग्रेस द्वारा कथित तौर पर उपेक्षा किये जाने से परेशान होकर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने गत मंगलवार को कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था और बुधवार को भाजपा में शामिल हो गये। उनके साथ ही मध्यप्रदेश के 22 कांग्रेस विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था, जिनमें से अधिकांश सिंधिया के कट्टर समर्थक हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Kerala Lottery Results Announced: परिणाम घोषित, केरल में इन तमाम लोगों की लगी लाखों रुपए की लॉटरी
2 यूपी की राह पर केरल सरकार, कोरोना पर नियम का उल्लंघन करने पर 79 लोगों पर FIR
3 ‘केंद्र सरकार 50 ‘विलफुल डिफॉल्टर’ का बताए नाम’, जब राहुल गांधी ने पूछा तो संसद में बोले मंत्री- वेबसाइट पर हैं नाम
IPL 2020 LIVE
X