ताज़ा खबर
 

जजों की PC: हिल उठी न्यायपालिका, लेकिन मस्ती में टि्वटर यूजर्स, बोले- पहले लेटर का मतलब तो समझाओ

जजों ने यहां प्रेस कॉन्फ्रेंस की और उधर ट्विटर पर बैठे लोगों को मौका मिल गया।
जस्टिस चेलामेश्वर प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान। फोटो-एएनआई।

सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने पहली बार प्रेस कॉन्फ्रेंस कर शीर्ष अदालत की कार्यप्रणाली को लेकर शुक्रवार (12 जनवरी) को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। जजों ने चीफ जस्टिस को भेजी वह चिट्ठी भी सार्वजनिक कर दी, जिसमे कामकाज को लेकर सवाल उठाए गए थे। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद न्यायपालिका समेत देश भर में हंगाम कटा है। तमाम तरह की बहसें चल रही हैं। लेकिन इस बेहद गंभीर मसले पर सोशल मीडिया में मजेदार चीजें भी चल रही हैं। एक तरफ जस्टिस चेलामेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन भीमराव और जस्टिस कुरियन जोसेफ ने मीडिया के सामने अपनी परेशानियां जाहिर कीं, तो ट्विटरियों ने पूछ लिया कि पहले उस चिट्ठी का मतलब समझाया जाए जो चीफ जस्टिस को भेजी गई थी।

एक यूजर ने चारों जजों को मजेदार सलाह दे डाली। यूजर ने लिखा- चारों जज अब सुबह की सैर को नजरअंदाज करें, अपनी एमआरआई रिपोर्ट छपवाते रहें। हार्टअटैक को लेकर सावधानी बरतें। किसी भी शादी में जाने से बचें। बुलेट प्रूफ जैकेट पहनकर निकलें और किसी भी दोस्त पर भरोसा न करें।

एक यूजर ने एक कार्टून शेयर कर उनकी हालत बयां की। वहीं एक यूजर ने मजेदार जिफ वीडियो शेयर बताया कि चिट्ठी को समझने की कोशिश चल रही है। एक यूजर ने इसी बहाने बीजेपी पर तंज कसा। यूजर ने लिखा कि आओ षड़यंत्र थियोरी को विकसित करें। गड़े मुर्दे उखाड़े, जस्टिस चेलेश्वरम और जजों की निंदा करें। आओं कैसे भी कांग्रेस को कोसे। अपने चैनलों से भौकें। एक यूजर ने एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि अरविंद केजरीवाल सुप्रीम कोर्ट और इसके चीफ जस्टिस के बारे में सही कहते हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.