scorecardresearch

एलजेपी की लड़ाई में ट्विस्ट: महिला के यौन शोषण, लिव-इन और ब्लैकमेलिंग का एंगल, बागी सांसद प्रिंस के खिलाफ महिला मित्र गई पुलिस के पास

एक पुलिस अधिकारी ने प्राथमिकी के हवाले से बताया कि अपनी शिकायत में, प्रिंस राज ने पुलिस को बताया था कि वह उस महिला से मिला था, जिसने पिछले साल एक पार्टी कार्यकर्ता होने का दावा किया था। जिसके बाद दोनों के बीच नंबरों का आदान-प्रदान हुई, दोनों के बीच बात होने लगी और दोस्त बन गए।

Prince Raj, Chirag Paswan, Pashupatinath Paras
समस्तीपुर से सांसद प्रिंस राज अपने चाचा और हाजीपुर से सांसद पशुपति पारस के साथ(@PrinceRajPaswan.official · Politician)

समस्तीपुर से लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद प्रिंस राज द्वारा एक महिला सहित दो लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के चार महीने बाद अब महिला ने भी पुलिस में शिकायत की है। हालांकि पुलिस ने कहा है कि अभी तक प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है मामले की जांच की जा रही है।

बताते चलें कि प्रिंस राज उन पांच लोजपा सांसदों में शामिल हैं, जिन्होंने अपने चचेरे भाई चिराग पासवान के खिलाफ बगावत की है। मंगलवार को चिराग ने अपने चाचा और हाजीपुर से सांसद पशुपति कुमार पारस को 29 मार्च को लिखा एक पत्र साझा किया था, जिसमें उन्होंने मामले का जिक्र किया था। चिराग ने लिखा था कि जब चचेरे भाई प्रिंस राज को कथित तौर पर एक महिला ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाकर ब्लैकमेल करने का प्रयास किया तो पारस ने इसकी अनदेखी की थी लेकिन उन्होंने ही राज को पुलिस के पास जाने की सलाह दी थी।

गौरतलब है कि प्रिंस राज रामविलास पासवान के सबसे छोटे भाई रामचंद्र पासवान के बेटे हैं। रामचंद्र पासवान की मौत के बाद वो सांसद बने हैं। बुधवार को मामले का जिक्र करते हुए चिराग ने कहा कि मैंने पहली बार 8 जनवरी को इसके बारे में सुना था… मुझे कथित पीड़िता द्वारा लिखा गया एक पत्र दिया गया था। उन्होंने कुछ चीजों के बारे में बात की थी जो उन्होंने कहा कि उनके साथ हुई। उन्होंने जिस सांसद पर आरोप लगाया वो मेरे भाई प्रिंस राज थे, जब मैंने प्रिंस को यह बात बताई तो उन्होंने मेरे सामने मामले का दूसरा संस्करण रखा। उनका बयान पूरी तरह से अलग था… मैं कोई जांच अधिकारी हूं नहीं, और मैंने सुझाव दिया कि दोनों पुलिस के पास जाएं।”

पूरे मामले पर पुलिस का कहना है कि प्रिंस राज ने महिला और उसके साथी के खिलाफ इस साल 10 फरवरी को रंगदारी की शिकायत दर्ज कराई थी और संसद मार्ग थाने में आईपीसी की धारा 384 (जबरन वसूली) और 389 (आरोप लगाने के डर से व्यक्ति को फंसाना) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई थी। बाद में मामला नई दिल्ली जिले के विशेष स्टाफ को सौंप दिया गया, हालांकि अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

पुलिस अधिकारी ने प्राथमिकी के हवाले से बताया कि अपनी शिकायत में, प्रिंस राज ने पुलिस को बताया था कि वह उस महिला से मिला था, जिसने पिछले साल एक पार्टी कार्यकर्ता होने का दावा किया था। जिसके बाद नंबरों का आदान-प्रदान किया, दोनों के बीच बात होने लगी और दोस्त बन गए। उनके अनुसार, 18 जून (2020) को, महिला ने उसे गाजियाबाद में अपने घर पर आमंत्रित किया फिर दोनों ने शारीरिक संबंध बनाए। वह कई मौकों पर उसके घर गया।

अपनी शिकायत में, प्रिंस राज ने दावा किया कि कुछ महीने बाद, उसे पता चला कि महिला एक पुरुष के साथ लिव-इन रिलेशनशिप में है। अगस्त के बाद से, उसने उससे बचना शुरू कर दिया और उसका फोन उठाना बंद कर दिया। उसने आरोप लगाया कि एक दिन महिला के मित्र ने उसके नंबर से फोन किया और उसका और महिला का आपत्तिजनक वीडियो लीक करने की धमकी दी। वीडियो जारी नहीं करने के लिए उनसे 1 करोड़ रुपये की मांग की गयी। 

पुलिस ने कहा कि प्रिंस राज ने अपनी शिकायत में दावा किया था कि उसने 2 लाख रुपये का भुगतान भी किया, लेकिन उन्होंने उस पर 1 करोड़ रुपये का भुगतान करने का दबाव डाला। अधिकारी ने बताया कि 9 फरवरी (2021) को प्रिंस राज ने दिल्ली पुलिस से संपर्क किया और महिला के साथ अपनी बातचीत के साथ अपनी शिकायत प्रस्तुत की। उसने उसके चार फोन नंबर भी साझा किए और कहा कि वह अधिक दबाव नहीं झेल पा रहा है। 

पुलिस अधिकारी ने कहा कि अब महिला ने मंगलवार शाम पुलिस से संपर्क किया है और कनॉट प्लेस पुलिस स्टेशन में तीन पेज की शिकायत दर्ज कराई। अपनी शिकायत में, महिला ने आरोप लगाया है कि प्रिंस राज ने उसे नशीला पदार्थ पिलाया जिससे वो बेहोश हो गई। उसने दावा किया कि उसका यौन शोषण किया गया और उसने उससे शादी करने का वादा किया था। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।

(ईएनएस इनपुट के साथ)

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

X