ताज़ा खबर
 

प्रो.संगीत रागी को खालिद इबादुल्लाह ने बताया मानसिक ‘रोगी’, एंकर से कहा- समझाइए, दवा खिलवाइए… विश्लेषक ने यूं दिया जवाब

खालिद डिबेट में कहने लगे कि संगीत रागी विश्लेषक हैं या मानसिक रोगी। वे कह रहे हैं कि इस्लाम कम्युनल है। इसलिए उनको दावा खिलाइए और उनका इलाज करवाइए। इसके बाद खालिद ने कहा कि अगर इस्लाम कम्युनल है तो मुसलमान सेक्युलर कैसे हो सकता है। 

republic tv , prime time , primte time tv debateRSS विचारक प्रो.संगीत रागी। (फाइल फोटो)

पश्चिम बंगाल में इसी साल विधानसभा चुनाव होने को हैं। चुनाव से पहले बंगाल की राजनीति में काफी भगदड़ मची हुई है। इतना ही नहीं बीजेपी ने तो यह भी दावा कर दिया है कि सत्तारुढ़ तृणमूल कांग्रेस के करीब 40 से ज्यादा विधायक उनके संपर्क में हैं। इसके अलावा टीवी चैनल्स पर भी बंगाल की राजनीति को लेकर खूब चर्चा भी हो रही है। एक डिबेट शो के दौरान राजनीतिक विशेषज्ञ खालिद इबादुल्लाह ने प्रो संगीत रागी को मानसिक रोगी तक बता दिया। इतना ही नहीं खालिद ने डिबेट शो के एंकर से यहाँ तक कह दिया कि आप संगीत रागी को समझाइए और उनको दवा खिलाइए।

दरअसल बंगाल चुनाव पर हो रहे डिबेट के दौरान आरएसएस समर्थक संगीत रागी ने इस्लाम को लेकर कुछ आपत्तिजनक बयान दे दिया जिसको लेकर कार्यक्रम में मौजूद राजनीतिक विशेषज्ञ खालिद इबादुल्लाह भड़क गए। खालिद डिबेट में कहने लगे कि संगीत रागी विश्लेषक हैं या मानसिक रोगी। वे कह रहे हैं कि इस्लाम कम्युनल है। इसलिए उनको दावा खिलाइए और उनका इलाज करवाइए। इसके बाद खालिद ने कहा कि अगर इस्लाम कम्युनल है तो मुसलमान सेक्युलर कैसे हो सकता है। 

खालिद इबादुल्लाह आगे डिबेट में कहने लगे कि संगीत रागी जैसे लोग ही दूसरे धर्मों पर इस तरह के कमेंट कर देश के सेक्युलर माहौल को ख़राब करना चाहते हैं। इसके अलावा उन्होंने एंकर से कहा कि ऐसे लोगों को मानसिक अस्पताल में होना चाहिए ना कि टीवी डिबेट में। हालाँकि एंकर ने खालिद को कहा कि आप किसी पर भी इस तरह का कमेंट ना करें। लेकिन खालिद नहीं माने और आगे कहने लगे कि संगीत रागी पहले अपने बयान के लिए माफ़ी मांगे।

हालाँकि संगीत रागी ने खालिद इबादुल्लाह की बात का जवाब देते हुए कहा कि इस्लाम दूसरे धर्मों के प्रति असहिष्णुता की बात अपने धर्मग्रन्थ में करता है। इसलिए कोई भी अगर उनके रास्ते पर चलता है तो वह कम्युनल है। इसके अलावा संगीत रागी ने कहा कि भारत का मुसलमान चूँकि इसी देश एक परिवेश में पलता बढ़ता है इसलिए वह सेक्युलर हो सकता है। हालाँकि टीवी डिबेट के दौरान एंकर ने दोनों पैनलिस्टों से हिन्दू मुस्लिम ना करने का आग्रह किया लेकिन इसके बावजूद भी वे दोनों नहीं माने।

Next Stories
1 किसान आंदोलनः कमेटी बनने से 1-2 माह पहले ही आ गए थे फैसले, राकेश टिकैत बोले- सरकार पर भरोसा, कमेटी पर नहीं
2 कोरोनाः केंद्र बोला- गर्भवती, दूध पिलाने वाली महिलाएं फिलहाल न लगवाएं टीका; पर क्या बच्चों को दी जा सकती है? जानें
3 MP के नेताओं को क्या हो जाता है? कभी आपके नेता कहते हैं ‘टंच माल’, तो कभी प्रजनन की बताने लगते हैं उम्र- कांग्रेसी नेता को झाड़ने लगीं एंकर
ये पढ़ा क्या?
X