ताज़ा खबर
 

जितिन पर संजय निरूपम का तंज- ये बड़े बाप के बेटे, एंकर ने राहुल पर किया सवाल तो कहा- वो दिन-रात कर रहे मेहनत

संजय निरूपम ने कहा, "जितिन प्रसाद कोई ऐसे नेता नहीं थे, जिनका इतना बड़ा जनाधार हो कि उनके जाने से पार्टी टूट जाए या पार्टी खत्म हो जाए। ऐसा भी नहीं था कि वे होते तो पार्टी को भारी जीत दिला देते। राज्य में कांग्रेस की सरकार ला देते।"

बुधवार को कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होने पर जितिन प्रसाद का स्वागत करते पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा। (फोटो-पीटीआई)

कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद के पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल होने पर राजनीतिक चर्चाएं दिनभर जारी रहीं। इसको लेकर कई तरह बयान सामने आए। कुछ लोगों ने इसे अच्छा कदम बताया तो कुछ ने इसे कांग्रेस पार्टी को धोखा देना कहा। सोशल मीडिया से लेकर इलेक्ट्रानिक मीडिया तक पर इस पर दिन भर बयानबाजी होती रही। कांग्रेस के कई नेताओं ने कहा कि जिनको पार्टी ने बड़ी मेहनत से सब कुछ देकर तैयार किया वे बुरे दौर में पार्टी को धोखा देकर अवसरवादी तरीके से चले गए।

टीवी चैनल आजतक के हल्लाबोल कार्यक्रम में एंकर अंजना ओमकश्यप के साथ डिबेट में कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय निरूपम ने कहा, “पहली बात तो यह है कि आम तौर पर किसी भी नेता या कार्यकर्ता के पार्टी छोड़कर जाने से नुकसान होता है। दूसरी बात यह है कि जितिन प्रसाद कोई ऐसे नेता नहीं थे, जिनका इतना बड़ा जनाधार हो कि उनके जाने से पार्टी टूट जाए या पार्टी खत्म हो जाए। ऐसा भी नहीं था कि वे होते तो पार्टी को भारी जीत दिला देते। राज्य में कांग्रेस की सरकार ला देते।”

उन्होंने कहा, “ये हैं कौन? ये सब बड़े बाप के बेटे हैं। इनको लगता है कि पिता के निधन के बाद पार्टी में उनकी जगह उनका स्तर उतना ही बड़ा बन गया है। पार्टी ने इनको मौका दिया, तैयार किया, चुनाव में खड़ा किया और जिता दिया। इससे ये खुद बहुत बड़े नहीं हो गए। आज जरूरत है कि कांग्रेस पार्टी मंथन करे। जिनको तैयार किया, जिनको सबकुछ दिया, वे पार्टी के साथ दगाबाजी कर रहे हैं। पार्टी ने ही इनको बढ़ावा दिया है।”

एंकर अंजना ओम कश्यप ने संजय निरूपम से पूछा कि बड़े बाप के बेटे तो राहुल गांधी भी हैं। तो उन्होंने कहा कि राहुल गांधी मेहनत कर रहे हैं। राहुल गांधी दिन-रात पार्टी को खड़ा करने में लगे हैं। वे पुनर्जीवित करने में लगे हैं।

जितिन प्रसाद राहुल के दोस्त होकर राहुल को छोड़ गए। जिनके लिए राहुल ने मेहनत की, उनकी पीआर कराया, दिल्ली में उनको पहचान दिलाई। वे बुरे दौर में पार्टी को छोड़ गए। और यह कहना कि एक व्यक्ति विशेष के कारण वह पार्टी छोड़ रहे हैं।

Next Stories
1 कोरोनाः एम्स की रिपोर्ट में दावा- खतरनाक डेल्टा वेरिएंट वैक्सीन लेने के बाद भी कर रहा असर
2 कोरोनाः केंद्र की लेटलतीफी पर बिफरा बॉम्बे HC, कहा- वायरस पर होनी थी सर्जिकल स्ट्राइक
3 यस बैंक को 466 करोड़ की चपत लगाने वाले गौतम थापर पर सीबीआई का शिकंजा
ये पढ़ा क्या?
X