ताज़ा खबर
 

CAA, NRC, NPR पर बोले तुषार गांधी- तब बापू को मारा, आज भारत मां को मार रहे तीन गोलियां

दिल्ली के शाहीन बाग इलाके की तरह कोलकाता के पार्क सर्कस मैदान में भी प्रदर्शनकारी पिछले कई दिनों से यहां डटे हैं। शुक्रवार को तुषार गांधी समेत कई सामाजिक कार्यकर्ता इस प्रदर्शन में शामिल हुए।

कोलकाता के पार्क सर्कस मैदान में आयोजित रैली के दौरान तुषार गांधी। (pti photo)

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के परपोते तुषार गांधी ने एक जनसभा के दौरान कहा कि तीन गोलियों ने महात्मा गांधी को मारा और जो लोग राष्ट्रपिता की हत्या के लिए जिम्मेदार थे, वो अब भारत को भी तीन गोलियों से ही मारने की धमकी दे रहे हैं। ये तीन गोलियां हैं सीएए, एनआरसी और एनपीआर।

कोलकाता के पार्क सर्कस मैदान में सीएए एनआरसी के विरोध में एक जनसभा को संबोधित करते हुए तुषार गांधी ने उक्त बातें कहीं। बता दें कि दिल्ली के शाहीन बाग इलाके की तरह कोलकाता के पार्क सर्कस मैदान में भी प्रदर्शनकारी पिछले कई दिनों से यहां डटे हैं। शुक्रवार को तुषार गांधी समेत कई सामाजिक कार्यकर्ता इस प्रदर्शन में शामिल हुए।

तुषार गांधी ने कहा कि “उन्होंने बापू की छाती में 3 गोलियां दागी। अब वही लोग उसी तरह तीन गोलियों सीएए, एनआरसी और एनपीआर से देश को मार रहे हैं। याद रखें, उनका स्वभाव नहीं बदला है, लेकिन हमें उन्हें बताना होगा कि हमारी छाती बहुत मजबूत है और हम उनकी गालियों के आगे नहीं झुकेंगे।”

तुषार गांधी ने विरोध प्रदर्शन को अहिंसक रखने पर जोर दिया और कहा कि यदि हम इस देश के लिए अपना खून बहाते हैं तो हम इसके लिए तैयार हैं लेकिन हम उनका खून नहीं बहाएंगे, जो हमारा विरोध कर रहे हैं। हमारी ताकत ये ही है कि हमारा मूवमेंट अहिंसक है।

वहीं शाहीन बाग विरोध प्रदर्शन का चेहरा बनीं 82 वर्षीय बिल्किस बानो भी इस कोलकाता के पार्क सर्कस में आयोजित हुई इस रैली में पहुंची। उन्होंने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा वो कहते हैं कि हम शाहीन बाग में इसलिए हैं कि वहां मुफ्त बिरयानी मिल रही है। मैं कहना चाहती हूं पीएम मोदी से कि क्या आप भी पाकिस्तान बिरयानी खाने गए थे।

कोलकाता में आयोजित हुए इस कार्यक्रम में भारतीय संविधान के वास्तुकार भीमराव अम्बेडकर के परपोते राज रत्न अम्बेडकर भी शामिल हुए। उन्होंने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि ये लोग संविधान से डरे हुए हैं। भाजपा मनुस्मृति को लागू करना चाहती है। नया सीएए कानून ना सिर्फ मुस्लिमों से भेदभाव करता है बल्कि आदिवासी, एससी, एसटी और अन्य पिछड़ा वर्ग के साथ भी भेदभाव करता है।

 

Next Stories
1 दिल्ली दंगा: WSJ के खिलाफ पुलिस में शिकायत, अंकित शर्मा के भाई ने कहा- मेरे नाम से चलाया झूठा बयान
2 राजस्थान: ‘रातभर पुलिसवाले पीटते रहे और वो चिल्लाता रहा, फिर हो गई मौत’, दलित युवक ने बताई भाई की आपबीती
3 NSA के दौरे और भारी सुरक्षा बल की तैनाती के बावजूद 60 साल के बुजुर्ग की पीट-पीटकर हत्या, दिल्ली हिंसा में मृतकों की संख्या हुई 42
Coronavirus LIVE:
X