ताज़ा खबर
 

भूतपूर्व सैनिकों का पदकों को जलाने की कोशिश राष्ट्र का अपमान: भाजपा

भाजपा ने कहा कि अपने वीरता पदकों को जलाने का कुछ भूतपूर्व सैनिकों का प्रयास निन्दनीय और राष्ट्र का अपमान है। भाजपा की एक्स-सर्विसमेन..

Author जम्मू | November 12, 2015 7:29 PM
भाजपा, भूतपूर्व सैनिक, वीरता पदक, ओआरओपी, BJP, OROP, gallantry medals, Nations, Gantar Mantar, Jammu, Kashmir, Delhiनई दिल्ली में जंतर मंतर पर कुछ भूतपूर्व सैनिकों ने पदकों को जलाने की कोशिश की। (पीटीआई फाइल फोटो)

भाजपा ने गुरुवार को यहां कहा कि अपने वीरता पदकों को जलाने का कुछ भूतपूर्व सैनिकों का प्रयास निन्दनीय और राष्ट्र का अपमान है। भाजपा की एक्स-सर्विसमेन सेल के संयोजक ब्रिगेडियर अनिल गुप्ता ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘कल (बुधवार) को नई दिल्ली में जंतर मंतर पर कुछ भूतपूर्व सैनिकों द्वारा पदकों को जलाया जाना अत्यंत निंदनीय है। यह राष्ट्र का अपमान है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘पदक वीरता, विशिष्ट सेवा और सियाचिन जैसे दुरुह क्षेत्रों में सेवा के लिए कृतज्ञ राष्ट्र द्वारा दिए जाते हैं और सैनिकों के लिए इनका भावनात्मक महत्व होता है।’’वन रैंक वन पेंशन के मुद्दे पर ब्रिगेडियर गुप्ता ने कहा कि मुद्दे पर सरकार की अधिसूचना के साथ मुद्दे का समाधान हो गया है और भूतपूर्व सैनिकों के एक तबके द्वारा किए जा रहे विरोध की कोई आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘जिसे अन्य लोग 40 साल में नहीं कर सके, उसे एक साल में कर देने के लिए मोदी सरकार का शुक्रिया अदा करने की जगह उन्होंने टकराव का मार्ग चुना है।’’

ब्रिगेडियर गुप्ता ने कहा कि पदकों को जलाने की कोशिश कर उन्होंने न सिर्फ अधिकतर भूतपूर्व सैनिकों की भावनाओं को ठेस पहुंचाई है, बल्कि समूचे राष्ट्र की भावनाओं का अपमान किया है। उन्होंने कहा, ‘‘कोई भी भूतपूर्व सैनिक सेवानिवृत्ति के बाद भी अपने पदकों को गर्व के साथ पहनता है और उन्हें अपना गौरव मानता है । इसलिए उनका (पदकों का) कोई भी अपमान अस्वीकार्य है।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बेंगलुरू में दिवाली की रात महिला से गैंगरेप, टेनिस क्लब के 2 सुरक्षा गार्ड्स गिरफ्तार
2 फिरोजाबाद: खेत में मरी मिलीं 13 गायें, गांव में फैला तनाव
3 अकाल तख्त तक मार्च के पहले कई सिख नेता हिरासत में
ये पढ़ा क्या?
X