ताज़ा खबर
 

कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन में हिस्सा लेने आ रहे किसानों के ट्रैक्टर को ट्रक ने मारी टक्कर, एक की मौत

घटना शुक्रवार तड़के भिवानी के मुढ़ाल में हुई जब ट्रक ने एक पुलिस अवरोधक के पास ट्रैक्टर को टक्कर मार दी। हरियाणा पुलिस के एक प्रवक्ता ने कहा कि ट्रैक्टर को टक्कर मारने वाले ट्रक के चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

Author चंडीगढ़ | November 28, 2020 6:44 AM
Farm Laws, Farmers, Punjab, BJP, INCकृषि कानून के खिलाफ पंजाब के बठिंडा शहर में भाई कन्हैया चौक बाधित कर विरोध करते हुए किसान। (फोटोः PTI)

कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन में हिस्सा लेने राष्ट्रीय राजधानी जा रहे किसानों के ट्रैक्टर को शुक्रवार को हरियाणा के भिवानी जिले में एक ट्रक ने टक्कर मार दी। इसमें एक किसान की मौत हो गई और दो अन्य घायल हो गए।

पुलिस ने बताया कि घटना शुक्रवार तड़के भिवानी के मुढ़ाल में हुई जब ट्रक ने एक पुलिस अवरोधक के पास ट्रैक्टर को टक्कर मार दी। हरियाणा पुलिस के एक प्रवक्ता ने कहा कि ट्रैक्टर को टक्कर मारने वाले ट्रक के चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। प्रवक्ता ने कहा कि इस दुर्घटना में पंजाब के मनसा के निवासी किसान तन्ना सिंह की घटनास्थल पर ही मौत हो गई जबकि दो अन्य घायल हो गए। पुलिस घायलों को इलाज के लिए तत्काल भिवानी सिविल अस्पताल ले गई। उन्होंने कहा कि शिकायत मिलने के बाद ट्रक चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया। मृतक की आयु लगभग 40 वर्ष बताई गई है।

उधर, दिल्ली सरकार ने शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों का स्वागत ‘अतिथि’ के तौर पर करते हुए उनके खाने, पीने और आश्रय का बंदोबस्त किया। राष्ट्रीय राजधानी के विभिन्न प्रवेश बिंदुओं से हजारों किसानों को प्रवेश करने और उत्तरी दिल्ली के मैदान में कृषि कानूनों के खिलाफ शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन की अनुमति दी गई है।

किसानों के कुछ प्रतिनिधियों ने बुरारी में अन्य पुलिस अधिकारियों के साथ निरंकारी समागम ग्राउंड का मुआयन किया। दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा ने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निर्देश पर संबंधित स्थल पर पेयजल की व्यवस्था की है। वहीं राजस्व मंत्री कैलाश गहलोत ने उत्तरी दिल्ली और मध्य दिल्ली के जिला अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे किसानों के आश्रय, पेयजल, मोबाइल टॉयलेट के साथ ही ठंड के महीने और महामारी को देखते हुए उपयुक्त व्यवस्था करें।

वहीं सिंघु बॉर्डर पर राष्ट्रीय राजमार्ग के एक हिस्से पर शुक्रवार शाम में किसानों ने बड़ी रसोई तैयार की और एक दिन के लंबे थका देने वाले प्रदर्शन के बाद भोजन तैयार किया। हालांकि भले ही पुलिस ने उन्हें राष्ट्रीय राजधानी में जाने की अनुमति दे दी हो लेकिन वे बुरारी के निरंकारी मैदान में जाने से इनकार कर रहे हैं। किसानों से कहा गया है कि वे केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ संबंधित मैदान में प्रदर्शन जारी रख सकते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कृषि कानूनों का विरोध: दिल्ली सरकार ने किसानों के लिए बुरारी में की व्यवस्था
2 कृषि कानूनों का विरोध: किसानों से तुरंत बात करे केंद्र : अमरिंदर सिंह
3 कृषि कानूनों का विरोध: झुकी सरकार, आगे बढ़े किसान; दिल्ली आने की मिली इजाजत
कोरोना टीकाकरण
X