ताज़ा खबर
 

सारे मंत्री हमारे साथ हैं- अर्नब गोस्वामी की चैट लीक के बाद बीजेपी बना रही दूरी

मुंबई पुलिस ने टीआरपी स्कैम मामले में सप्लीमेंट्री चार्जशीट में इन चैट के स्क्रीनशॉट सबूत के तौर पर पेश किए हैं। चैट में अर्नब गोस्वामी दावा करते दिख रहे हैं कि 'सारे मंत्री हमारे साथ हैं', ऐसे में अगर कांग्रेस की मांग पर गोस्वामी के दावो की जेपीसी जांच होती है। तो संसद खुलते ही बीजेपी और केंद्र के कई नेताओं की मुसीबतें बढ़ सकती हैं।

arnab goswami, arnab goswami chats leak, arnab goswami BJP, Congress Working Committee, arnab goswami sonia gandhiTRP SCAM: तस्वीर का इस्तेमाल प्रस्तुतीकरण के लिए किया गया है।

रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी और ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) के पूर्व सीईओ पार्थो दासगुप्ता के व्हाट्सएप चैट पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) और केंद्र के नेता कुछ भी कहने से बच रहे हैं। मुंबई पुलिस ने टीआरपी स्कैम मामले में सप्लीमेंट्री चार्जशीट में इन चैट के स्क्रीनशॉट सबूत के तौर पर पेश किए हैं। चैट में अर्नब गोस्वामी दावा करते दिख रहे हैं कि ‘सारे मंत्री हमारे साथ हैं’, ऐसे में अगर कांग्रेस की मांग पर गोस्वामी के दावो की जेपीसी जांच होती है। तो संसद खुलते ही बीजेपी और केंद्र के कई नेताओं की मुसीबतें बढ़ सकती हैं।

कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) ने शुक्रवार को “राष्ट्रीय सुरक्षा के उल्लंघन, आधिकारिक राज अधिनियम के उल्लंघन और शामिल व्यक्तियों की भूमिका” पर “समयबद्ध जांच” की मांग की है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि दूसरों को देशभक्ति और राष्ट्रवाद का प्रमाणपत्र बांटने वाले अब पूरी तरह बेनकाब हो गए हैं।

एक केंद्रीय मंत्री ने कहा कि हमारा इससे क्या लेना देना है, इसपर प्रतिकृया क्यों दे? मंत्री ने कहा “न तो सरकार और न ही पार्टी का इस बात से कोई लेना-देना है कि गोस्वामी ने किसी से क्या बातचीत की। अब तक, यह साबित नहीं हुआ है कि किसी भी पार्टी के किसी भी नेता का इससे कोई लेना देना या इसके साथ कुछ करना है।

कांग्रेस के इस आरोप पर कि गोस्वामी को बालाकोट एयर स्ट्राइक जैसे संवेदनशील सैन्य अभियानों के बारे में पहले से पता था। इसपर भाजपा नेताओं ने कहा “चैट में ऐसा कुछ नहीं था जो उस समय लोगों को नहीं पता था। पार्टी और सरकार में कई नेताओं ने पुलवामा हमले का बदला लेने के लिए निर्णायक कार्रवाई की चेतावनी दी थी।

अपने चैट में अरुण जेटली, प्रकाश जावड़ेकर और पूर्व मंत्री राज्यवर्धन राठौर जैसे नेताओं का नाम लेते हुए गोस्वामी ने दावा किया था कि ‘सभी मंत्री हमारे साथ हैं।’ इसके अलावा पत्रकार ने पीएमओ सहित राजनीतिक नेतृत्व के साथ मध्यस्थता करने की पेशकश भी की थी।

Next Stories
1 कृषि कानून विवाद: अड़े रहे किसान संगठन, केंद्र सरकार का रुख भी कड़ा
2 ट्रैक्टर परेड में 4 किसान नेताओं को गोली मारने की थी साजिश! आरोपी धराया, अन्नदाताओं ने PC में उगलवाया प्लान
3 अंबानी की RIL का बढ़ा कारोबारी मुनाफा, शीर्ष-10 रहीसों की लिस्ट में जानें अब कौन सा है पायदान
यह पढ़ा क्या?
X