ताज़ा खबर
 

त्रिपुरा चुनाव नतीजे 2018: BJP गठबंधन 43 सीटों पर जीता, लेफ्ट के खाते में 16 सीटें

Tripura Election Chunav Result 2018, Tripura Vidhan Sabha Chunav Election Result 2018 (त्रिपुरा विधानसभा इलेक्शन रिजल्ट 2018): त्रिपुरा विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित हो गए हैं। यहा भाजपा ने 35 सीटें जीती हैं, वहीं उसकी गठबंधन सहयोगी आईपीएफटी ने 8 सीटें जीती हैं। राज्य में बीते 25 वर्षो में सत्तासीन मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के नेतृत्व में वाममोर्चा मात्र 16 सीटें जीत सत्ता से बेदखल हो गई है।

Tripura Election Chunav Result 2018: जीत पर पीएम ने कार्यकर्ताओं का शुक्रिया करते हुए पीएम ने लिखा- ‘त्रिपुरा की जीत कोई मामूली जीत नहीं है। शून्य से शिखर तक पहुंचने की ये गाथा हमारे कार्यकर्ताओं की मेहनत और संगठन की शक्ति को दर्शाती है

Tripura Assembly Election Result 2018: त्रिपुरा में बीजेपी ने अप्रत्याशित जीत हासिल की है। पिछले विधानसभा में इस भगवा पार्टी को 1.5 फीसदी वोट से ही संतोष करना पड़ा था। यहा भाजपा ने 35 सीटें जीती हैं, वहीं उसकी गठबंधन सहयोगी आईपीएफटी ने 8 सीटें जीती हैं। राज्य में बीते 25 वर्षो में सत्तासीन मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के नेतृत्व में वाममोर्चा सत्ता से बेदखल हो गई है। मगर इस बार के चुनाव में पार्टी ने 43 प्रतिशत वोट हासिल करने के साथ जीत का आगाज किया है और इस तरह उसने वाम मोर्चे के इस गढ़ पर कब्जा जमा लिया है।

त्रिपुरा में बीजेपी की जीत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वहां राजनीतिक कारणों से हमारे कार्यकर्ताओं की हत्या की गई। नॉर्थ ईस्ट ठीक हो गया तो अब पूरी इमारत ठीक होगा। हमारे लिए ये NO ONE से WON तक की यात्रा। पीएम ने ट्विटर पर लिखा- ‘त्रिपुरा के मेरे भाइयों बहनों ने जो किया वह अविश्वसनीय है। उनके इस समर्थन और प्यार के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं। हम त्रिपुरा के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।’ अपने कार्यकर्ताओं का शुक्रिया करते हुए पीएम ने लिखा- ‘त्रिपुरा की जीत कोई मामूली जीत नहीं है। शून्य से शिखर तक पहुंचने की ये गाथा हमारे कार्यकर्ताओं की मेहनत और संगठन की शक्ति को दर्शाती है।’ पीएम ने ये भी लिखा कि, ‘त्रिपुरा की जीत जुल्मी ताकतों पर लोकतंत्र की जीत है। आज डर पर शांति और अहिंसा की जीत हुई है।’

 

Tripura Assembly Election Result 2018 UPDATES (त्रिपुरा विधानसभा चुनाव नतीजे 2018):

– लेफ्ट के खाते में एक और सीट आ गई है। अब लेफ्ट के विजयी सदस्यों की संख्या कुल 15 हो गई है। 1 सीट पर उसे अभी भी बढ़त बना रखी है। बीजेपी गठबंधन ने 43 सीटें जीत ली हैं।

– शाम 8:30 बजे तक के चुनाव आयोग के नतीजों के हिसाब से बीजेपी गठबंधन ने 43 सीटें जीत ली हैं। लेफ्ट ने 14 सीटों पर विजय हासिल की है जबकि 2 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है।

– बीजेपी और आईपीएफटी ने कुल 42 सीटें जीत ली हैं। वहीं लेफ्ट के खाते में अभी तक सिर्फ 13 सीटें आई हैं। 4 सीटों पर अभी मतगणना जारी है।

– शाम 7:30 बजे तक जो नतीजे घोषित हुए हैं उसमें लेफ्ट के खाते में 13 सीटें आई हैं। वहीं बीजेपी गठबंधन 41 सीटें जीत सरकार बनाने जा रही है।

– सीताराम येचुरी ने मणिक सरकार के क्षेत्र धानपुर में वोटिंग रुकने के मामले पर कहा: बीजेपी पोलिंग एजेंट ने कंट्रोलिंग यूनिट पर साइन नहीं किया था। उन्होंने सही तरीके को फॉलो नहीं किया और वे अब दोबारा चुनाव की मांग कर रहे हैं।

– शाम 7 बजे तक के आंकड़ों के हिसाब से त्रिपुरा में बीजेपी और आईपीएफटी ने 41 सीटें जीत ली हैं। वहीं लेफ्ट 12 सीटों पर जीत दर्ज करा चुकी है।

– त्रिपुरा में जीत पर पीएम मोदी ने कहा- राजनीतिक कारणों से हमारे कार्यकर्ताओं की हत्या की गई। नॉर्थ ईस्ट ठीक हो गया तो अब पूरी इमारत ठीक होगा। हमारे लिए ये NO ONE से WON तक की यात्रा।

– शाम 6 बजे तक के आंकड़ों के हिसाब से त्रिपुरा में बीजेपी और आईपीएफटी ने 38 सीटें जीत ली हैं। वहीं लेफ्ट 11 सीटों पर जीत दर्ज करा चुकी है।

– त्रिपुरा में भाजपा की सरकार बनने के करीब पहुंचने के बीच प्रदेश पार्टी अध्यक्ष बिप्लव देब ने कहा कि वह मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी लेने को तैयार हैं, लेकिन इस बारे में फैसला भाजपा संसदीय बोर्ड को लेना है।

– त्रिपुरा में बीजेपी की सरकार बन रही है। इस जीत पर पीएम ने लिखा- ‘त्रिपुरा के मेरे भाइयों बहनों ने जो किया वह अविश्वसनीय है। उनके इस समर्थन और प्यार के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं। हम त्रिपुरा के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।’ अपने कार्यकर्ताओं का शुक्रिया करते हुए पीएम ने लिखा- ‘त्रिपुरा की जीत कोई मामूली जीत नहीं है। शून्य से शिखर तक पहुंचने की ये गाथा हमारे कार्यकर्ताओं की मेहनत और संगठन की शक्ति को दर्शाती है।’ पीएम ने ये भी लिखा कि, ‘त्रिपुरा की जीत जुल्मी ताकतों पर लोकतंत्र की जीत है। आज डर पर शांति और अहिंसा की जीत हुई है।’

– त्रिपुरा में भाजपा 26 सीटों पर जीत दर्ज कर चुकी है और 9 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है। वहीं कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (मार्कसिस्ट) 11 सीटें जीत चुकी है और 5 सीटों पर आगे चल रही है। इसके अलावा इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा 7 सीटों पर जीत दर्ज कर चुकी है और 1 सीटों पर आगे चल रही है। बता दें कि त्रिपुरा में कुल 59 विधानसभा सीटें हैं

– बाधरघाट से बीजेपी के दिलीप सरकार चुनाव जीत चुके हैं। उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी झरना दास को 5448 वोटों से हराया।

– राजधानी अगरतला में बीजेपी के सुदीप रॉय बर्मन ने चुनाव जीत लिया है। साल 2013 में वह यहां से कांग्रेस पार्टी से विधायक चुने गए थे।

– त्रिपुरा से पहला नतीजा आ गया है। आश्रमबाड़ी सीट से सीपीआई-एम के अघोर देब बर्मा जीत गए हैं।

– मुख्यमंत्री और माकपा पोलितब्यूरो के सदस्य माणिक सरकार (धनपुर), स्वास्थ्य एवं लोकनिर्माण मंत्री बादल चौधरी (ऋषमुख), शिक्षा मंत्री तपन चक्रबर्ती (चांदीपुर), त्रिपुरा भाजपा के अध्यक्ष बिप्लब कुमार देब (बनमालीपुर), भाजपा उम्मीदवार सुदीप रॉय बर्मन (अगरतला), रतनलाल नाथ (मोहनपुर) आगे चल रहे हैं।

– माकपा के निवर्तमान विधायक और जनजातीय कल्याण मंत्री अघोर देबबर्मा (आश्रमबाड़ी), त्रिपुरा विधानसभा के उपसभापति पबित्रा कर (खयेरपुर), समीरन मलाकर (पबियाचारा), मनोरंजन देबबर्मा (मंडई बाजार), रतन दास (रामनगर), महिंद्रा चंद्र दास (कल्याणपुर-प्रमोदनगर) पीछे चल रहे हैं।

– बीजेपी नेता राम माधव ने कहा है कि शुरुआती रुझानों के अनुसार, ”मुझे लगता है त्रिपुरा में बीजेपी बहुत अच्‍छा करने जा रही है और नागालैंड में भी हमारा गठबंधन अच्‍छा कर रहा है और कांग्रेस पीछे चल रही है। पूर्वोत्‍तर के नतीजे बीजेपी के लिए बहुत अच्‍छे होंगे।”

– त्रिपुरा में फिर मामला पलट गया है। अब लेफ्ट 25 सीट पर आगे चल रही है, वहीं बीजेपी गठबंधन ने 20 सीटों पर बढ़त बना ली है। कांग्रेस उम्‍मीदवार एक सीट पर आगे चल रहा है। अभी तक कुल 46 सीटों के रुझान आए हैं।

त्रिपुरा में बीजेपी बहुमत के आंकड़े की ओर बढ़ रही है। रुझानों के अनुसार, भाजपा गठबंधन को अब तक 23 सीट पर बढ़त हासिल है। जबकि 14 सीटों पर लेफ्ट के उम्‍मीदवार आगे चल रहे हैं। कांग्रेस ने 2 सीट पर बढ़त बनाई हुई है। अब तक कुल 39 सीटों के रुझान आए हैं।

– राज्‍य से अब तक कुल 25 सीटों के रुझान आए हैं। यहां पर लेफ्ट ने 16 सीट पर बढ़त बना ली है। वहीं बीजेपी+ उम्‍मीदवार 9 सीटों पर आगे चल रहे हैं। एक सीट पर कांग्रेस उम्‍मीदवार आगे चल रहे हैं।

– त्रिपुरा में कांग्रेस के पक्ष में पहला रुझान आया। अब यहां पर बीजेपी+ 9 सीट पर आगे है, जबकि लेफ्ट को 10 सीट पर बढ़त मिल गई है। कांग्रेस सिर्फ एक सीट पर बढ़त बनाए हुए है।

– रुझानों में पल-पल बदलाव हो रहा है। अब बीजेपी+ 10 सीट पर आगे चल रही है, जबकि लेफ्ट को 9 सीट पर बढ़त मिली हुई है। इस सीमावर्ती राज्य में चुनाव मैदान में उतरी भाजपा माकपा की अगुवाई वाले वाममोर्चा के लिए एक अहम चुनौती बनकर उभरी है।

– त्रिपुरा में मुख्‍यमंत्री माणिक सरकार आगे चल रहे हैं। यहां पर लेफ्ट 8 सीट पर बढ़त बनाए हुए है, जबकि बीजेपी+ 6 सीट पर आगे चल रही है। बीजेपी के संभावित सीएम कैंडिडेट सुदीप बर्मन अगरतला सीट से आगे हैं।

अगरतला सीट से बीजेपी के सुदीप बर्मन आगे चल रहे हैं। मुख्‍यमंत्री माणिक सरकार भी अपनी सीट से आगे चल रहे हैं। इस समय बीजेपी+ ने 6 सीट पर बढ़त बना रखी है, जबकि लेफ्ट 8 सीट पर आगे है।

– त्रिपुरा में बीजेपी+ और लेफ्ट में कांटे की टक्‍कर देखने को मिल रही है। एबीपी न्‍यूज के अनुसार, बीजेपी+ 4 सीट पर आगे चल रही है, जबकि लेफ्ट ने 5 सीटों पर बढ़त बना रखी है।

– त्रिपुरा में बीजेपी का खाता खुला। बीजेपी+ ने अब तीन सीट पर बढ़त बना ली है। लेफ्ट 1 सीट पर आगे चल रही है। यह सभी पोस्‍टल बैलट के रुझान हैं।

– एबीपी न्‍यूज के अनुसार, त्रिपुरा चुनाव का पहला रुझान लेफ्ट के पक्ष में गया है। अभी तक सिर्फ एक सीट पर पोस्‍टल बैलट की गिनती पूरी हुई है। 2013 में माकपा को 49 में से 55 सीटें मिली थीं। कांग्रेस 48 सीटों पर लड़ी थी और उसे 10 सीटों से संतोष करना पड़ा था।

– मतगणना से पहले हालांकि माकपा और भाजपा दोनों ने दावा किया है कि उसकी सरकार बनने जा रही है। किसके दावे में दम था, यह शनिवार को दोपहर बाद से स्पष्ट होने लगेगा। वर्ष 2013 के चुनाव में भाजपा ने त्रिपुरा में 50 उम्मीदवार उतारे थे, जिनमें से 49 की जमानत जब्त हो गई थी। मात्र 1.87 फीसदी वोट मिलने के कारण यह पार्टी एक भी सीट नहीं जीत पाई थी।

– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने वामपंथ के बचे-खुचे किलों में से एक में भाजपा-आईपीएफटी चुनौती की अगुवाई की। माणिक सरकार ने भगवा चुनौती से इस वाम किले को बचाने की अकेले अपने दम पर बचाने की कोशिश की है। मतगणना सुबह 8 बजे शुरू होगी।

– पूर्वोत्तर में लगातार अपना पैर फैला रही भाजपा ने 51 सीटों पर उम्मीदवार उतार रखे हैं। उसने इंडिजिनियस पीपुल्स फ्रंट आॅफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) से चुनावपूर्व गठबंधन किया था। बाकी नौ सीटों पर वामविरोधी आईपीएफटी उम्मीदवार हैं। पार्टी पहले से ही असम, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश में सत्ता में है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App