ताज़ा खबर
 

कोरोना मरीजों को विवेकानंद से जुड़ी किताबें बंटवा रहे त्रिपुरा CM बिप्लव देव

सरकार ने इससे पहले इम्यूनिटी बूस्टर प्रोग्राम के तहत हर शनिवार को दोपहर 12 बजे से 4 बजे के बीच अनानास और नींबू का रस बांटने का निर्णय लिया था।

Tripura Chief Ministerमुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब। (फेसबुक)

कोरोना वायरस महामारी के दौर में त्रिपुरा सरकार ने लोगों की इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए राज्य में विटामिन-C से भरपूर अनानास और नींबू का रस बंटवाया। प्रदेश के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब अब लोगों को आध्यात्मिक रूप से मजबूत करने के तरीके पेश करना करना चाहते हैं। द इंडियन एक्सप्रेस के दिल्ली कॉन्फिडेंशियल में छपे एक कॉलम के मुताबिक सीएम इन दिनों कोविड-19 मरीजों में स्वामी विवेकानंद से जुड़ी किताबें बंटवा रहे हैं।

उन्होंने विवेकानंद के हवाले से मरीजों से कहा, ‘शक्ति ही जीवन है और कमजोरी मृत्यु है।’ उन्होंने फेसबुक पर लिखा कि कोरोना मरीजों को प्रेरित और मानसिक रूप से मजबूत करने के लिए हमने स्वामी विवेकानंद पर लिखी पुस्तक को हर संक्रमित को वितरित करने का निर्णय लिया है। ताकि वो इन पुस्तकों को पढ़ सकें और उनके विचारों से प्रेरित हो सकें। उन्होंने आगे लिखा कि जब हम कोरोना महामारी से लड़ रहे हैं तो शांत और और ऊर्जावान रहना बहुत जरूरी है।

देब सरकार ने इससे पहले इम्यूनिटी बूस्टर प्रोग्राम के तहत हर शनिवार को दोपहर 12 बजे से 4 बजे के बीच अनानास और नींबू का रस बांटने का निर्णय लिया था। सरकार ने बताया था कि अनानास और नींबू की खरीद सीधे किसानों से की जा रही है ताकि उन्हें भी मदद मिल सके। इस अभियान पर प्रतिमाह एक करोड़ रुपए खर्च होंगे। एक सप्ताह में अधिकतम 200 अनानास और 400 नींबू (रस के रूप में) एक वार्ड में वितरित करने की अनुमति दी गई।

उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण इन दिनों त्रिपुरा में भी तेजी से फैल रहा है। पिछले चौबीस घंटे में राज्य में 329 और लोगों को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया, जिससे राज्य में कुल 9,542 मामले हो गए, जबकि संक्रमण के कारण चार और मृत्यु होने से मृतकों की संख्या 83 हो गई। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।

संक्रमण के नए मामले आने के बाद राज्य में उपचाराधीन रोगियों की संख्या 2,866 हो गई है, जबकि 6,574 लोग अब तक इस बीमारी से उबर चुके हैं। 19 मरीज दूसरे राज्यों में चले गए हैं। त्रिपुरा में कोविड-19 के लिए अब तक 2,51,660 नमूनों की जांच की गई है। (एजेंसी इनपुट)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गुजरात: पैसे नहीं थे तो आदिवासी ने गांव की सड़क पर ही कर दिया पिता का अंतिम संस्कार, ऊंची जाति के लोगों ने थाने में करा दी FIR
ये पढ़ा क्या?
X