ताज़ा खबर
 

उत्तराखंड सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत बोले- तीन तलाक महिलाओं पर क्रूरता के सिवाय और कुछ नहीं

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा है कि तीन तलाक अमानवीय, असंवैधानिक और महिलाओं के शोषण का जरिया है, लिहाजा इसे खत्म किया जाना चाहिए ।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा है कि तीन तलाक अमानवीय, असंवैधानिक और महिलाओं के शोषण का जरिया है, लिहाजा इसे खत्म किया जाना चाहिए ।    रावत ने को बताया, ‘उच्चतम न्यायालय में तीन तलाक पर सुनवाई के दौरान बहस से स्पष्ट हो गया कि शरीयत कानून के तहत ऐसे चलन को सही नहीं ठहराया जा सकता ।’   उन्होंने कहा कि महिलाएं इस समाज की आधी आबादी हैं और इस तबके का ‘‘शोषण’’ हो रहा है । उन्होंने कहा कि यह चलन हमेशा के लिए खत्म होना चाहिए ।   तीन तलाक को अमानवीय और असंवैधानिक करार देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा,‘‘इसका : तीन तलाक: समर्थन नहीं किया जा सकता, क्योंकि यह मानवता के खिलाफ है । यह महिलाओं पर कू्ररता है । मुझे यकीन है कि उच्चतम न्यायालय जो भी फैसला सुनाएगा, उसका समाज पर सकारात्मक असर पड़ेगा ।’’
     उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में भाजपा को 70 में से 57 सीटें मिलने के बाद रावत को 18 मार्च को राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई थी ।
     प्रधान न्यायाधीश जे एस खेहर की अध्यक्षता वाली पांच न्यायाधीशों की एक संविधान पीठ ने तीन तलाक की संवैधानिक वैधता को चुनौती देने वाली अर्जियों पर अपना फैसला सुरक्षित रखा है ।

वहीं दूसरी ओर  अभिनेत्री और सामाजिक कार्यकर्ता शबाना आजमी ने एक बार फिर से तीन तलाक प्रथा की आलोचना की है। शबाना आजमी ने कहा है कि तीन तलाक अमानवीय प्रथा है और मुस्लिम महिलाओं के बुनियादी अधिकारों का उल्लंघन करता है। महिलाओं और मुस्लिम महिलाओं के समर्थन में कई बार बयान दे चुकी शबाना ने कहा कि ये प्रभा सभ्य समाज के लिए नहीं है और इसके कायदे कानून महिलाओं का हक छीनता है।शबाना आजमी ने कहा कि तीन तलाक प्रथा को जल्द से जल्द खत्म किया जाना चाहिए और इसके बारे में दो राय हो ही नहीं सकती है। उन्होंने कहा कि सरकार का ये कर्तव्य है कि मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करे।खुद मुस्लिम समाज से आने वाली शबाना आजमी ने कहा कि तीन तलाक की प्रथा महिलाओं को समानता और सशक्तिकरण के अधिकार से वंचित करती है। क्या मुसलमानों के धर्मग्रंथ कुरान में तीन तलाक का जिक्र है? इस सवाल के जवाब में शबाना आजमी ने कहा कि कुरान में भी इसका जिक्र नहीं है और इसक मतलब ये है कि कुरान भी तीन तलाक प्रथा की अनुमति नहीं देता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App