ताज़ा खबर
 

मौके पर चौका मारने को तैयार टीएमसी, बंगाल में भाजपा को रोकने के लिए बना रही रणनीति

तृणमूल कांग्रेस मुकुल रॉय के अलावा कई और भाजपा नेताओं के संपर्क में भी है। इसके अलावा भाजपा के कई मौजूदा विधायकों के भी तृणमूल में लौटने की संभावना जताई जा रही है।

शुक्रवार को चार साल बाद भाजपा नेता मुकुल रॉय दोबारा से टीएमसी में शामिल हो गए। (फोटो – एएनआई)

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले तृणमूल के बागी नेताओं का भाजपा में जाने का सिलसिला जारी था। लेकिन अब विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी को मिली बंपर जीत के बाद भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ चुके नेता दोबारा से तृणमूल में वापस से जाने लगे हैं। तृणमूल ने इसकी शुरुआत भाजपा नेता मुकुल रॉय से कर दी है। शुक्रवार को मुकुल रॉय अपने बेटे शुभ्रांशु के साथ तृणमूल कार्यालय भी पहुंचे। मुकुल रॉय की घर वापसी कराकर तृणमूल मौका देखकर चौका मारने की रणनीति पर काम करने में लगी हुई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार तृणमूल अभी से ही साल 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुट गई है। तृणमूल आगामी चुनाव में किसी भी हाल में भाजपा को रोकना चाहती है। पूर्व में साथ छोड़ चुके नेताओं को दोबारा से पार्टी में लाने की रणनीति को तृणमूल कांग्रेस ने गुप्त रखा हुआ है। इसी कड़ी में शुक्रवार को भाजपा नेता मुकुल रॉय, उनके बेटे शुभ्रांशु रॉय अपनी पुरानी पार्टी तृणमूल कांग्रेस के कार्यालय पहुंचे। मुकुल रॉय एक बार फिर से टीएमसी के साथ हो गए। मुकुल रॉय के साथ उनके बेटे शुभ्रांशु रॉय ने भी पार्टी की सदस्यता ली।

तृणमूल कांग्रेस मुकुल रॉय के अलावा कई और भाजपा नेताओं के संपर्क में भी है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार तृणमूल पूर्व मंत्री राजीव बनर्जी, उत्तरपारा के पूर्व विधायक प्रबीर घोषाल और मालदा की नेता सरला मुर्मू को भी वापस लाना चाहती है। इसके अलावा भाजपा के कई मौजूदा विधायकों के भी तृणमूल में लौटने की संभावना जताई जा रही है। सूत्रों का कहना है कि तृणमूल कांग्रेस पश्चिम बंगाल में भाजपा को रोकने के लिए उसके कई नेताओं को अपने साथ लाना चाहती है।  

पिछले दिनों ममता बनर्जी के भतीजे और तृणमूल कांग्रेस के महासचिव अभिषेक बनर्जी और मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय के बीच हुई मुलाक़ात के बाद ही राजनीतिक अटकलें काफी तेज हो गई थी। दरअसल पिछले दिनों अभिषेक बनर्जी कोलकाता के एक अस्पताल पहुंचे थे और उन्होंने कोरोना संक्रमण की चपेट में आए मुकुल रॉय और पत्नी का हालचाल लिया था। इस दौरान अभिषेक ने मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय से भी मुलाक़ात की थी। 

अभिषेक बनर्जी के द्वारा मुलाकात किए जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुकुल रॉय से फोन पर बात की थी। तभी से मुकुल रॉय के तृणमूल कांग्रेस में वापस लौटने की अटकलें काफी तेज हो गई थी। बीते बुधवार को तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सौगत रॉय ने भी कहा था कि मुकुल रॉय भले ही टीएमसी छोड़कर बीजेपी में गए लेकिन उन्होंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के ख़िलाफ़ कभी कुछ नहीं कहा।

Next Stories
1 बिहारः मांझी जी का मन डोल रहा है, तो RJD का गेट खुला है, आ जाएं…HAM चीफ को लेकर बोले तेज प्रताप
2 घर-घर राशन योजना: केंद्र की आपत्ति पर मनीष सिसोदिया बोले, BJP ‘भारतीय झगड़ा पार्टी’ बन गई है
3 बंगालः बेटे सुभ्रांशु संग टीएमसी में शामिल हुए मुकुल रॉय, भाजपा से मोहभंग
ये पढ़ा क्या?
X