ताज़ा खबर
 

PM मोदी, शाह को बताने का किया प्रयास कि वे गलत राह पर हैं- बोले मेघालय के राज्यपाल

मलिक ने यह कहते हुए जवाबी पत्र लिखा कि उन्होंने पीएम और केंद्रीय गृह मंत्री से भी कहा है कि "किसानों को दिल्ली से खाली हाथ नहीं लौटना चाहिए।"

modi, shahप्रधानमंत्री मोदी के साथ गृह मंत्री अमित शाह। (Indian Express)।

हरियाणा के निर्दलीय विधायक सोमबीर सांगवान को, किसान आंदोलन को लेकर, लिखे एक पत्र में मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने शुक्रवार को कहा: “मैंने प्रधानमंत्री और गृह मंत्री को यह बताने की कोशिश की है कि वे गलत रास्ते पर हैं और वे किसानों को दबाने, डराने और दबाव बनाने की कोशिश न करें ”।

बता दें कि विधायक सांगवान ने पहले ही तीन कृषि कानूनों के मुद्दे पर आंदोलनकारी किसानों के समर्थन में भाजपा-जेजेपी सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया था। विधायक ने आंदोलन को लेकर राज्यपाल सत्यपाल मलिक को एक पत्र लिखा था। मलिक ने यह कहते हुए जवाबी पत्र लिखा कि उन्होंने पीएम और केंद्रीय गृह मंत्री से भी कहा है कि “किसानों को दिल्ली से खाली हाथ नहीं लौटना चाहिए।”

राज्यपाल ने लिखा, “मैंने इस किसान आंदोलन के मुद्दे पर प्रधानमंत्री और गृह मंत्री से मुलाकात की और किसानों के साथ न्याय करने और उनकी वास्तविक मांगों को स्वीकार करने का सुझाव दिया। मैंने बैठक में यह भी स्पष्ट किया है कि किसानों के आंदोलन को दबाया नहीं जा सकता है। केंद्र को इसे हल करते हुए उनकी मांगों को स्वीकार करना चाहिए। मैं भविष्य में भी ऐसा प्रयास जारी रखूंगा। इसके लिए जो भी संभव होगा मैं वह करूंगा।”

मलिक ने सांगवान को आगे लिखा: “मैं आपको और आपकी खाप को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि मैं आपका सहयोग कभी नहीं छोड़ूंगा। मैं मई के पहले सप्ताह में दिल्ली आ रहा हूं और संबंधित सभी नेताओं से मिलकर किसानों के पक्ष में आम सहमति बनाने की कोशिश करूंगा।”

मलिक ने लिखा है: “मुझे आपका पत्र मिला है … जिसमें आपने संसद से पारित कृषि कानूनों के बारे में विस्तार से बताया है। देश के किसानों ने एक शांतिपूर्ण तरीके से एक अद्भुत लड़ाई लड़ी है और इस संघर्ष में अपने 300 साथियों को खो दिया है। यह चिंता की बात है कि इतनी बड़ी त्रासदी के बाद भी केंद्र सरकार ने एक बार भी खेद नहीं जताया है। ”

मलिक ने आगे लिखा है: “इस तरह का रवैया निंदनीय और निर्दयता से भरा है। दूसरी ओर, सरकार द्वारा किसानों के साथ बातचीत किए बिना आंदोलन को तोड़ने और बदनाम करने की कोशिश की गई। मैं सभी किसानों से कहना चाहूंगा कि वे सरकार के जाल में न पड़ें और अपनी एकता बनाए रखें। मैंने इस मामले में अपने स्तर पर बहुत प्रयास किए हैं जिसमें आप और आपकी खाप को मुझसे अपेक्षाएँ हैं।”’

Next Stories
1 अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हो रहा है दुरुपयोग! जस्टिस एसए बोबडे ने जताई चिंता
2 वो विजुअल चलाएं, जिसमें PM के साथ मीटिंग में केजरीवाल ले रहे थे अंगड़ाई…हंसी ठहाके लगा रहे थे- बोले BJP प्रवक्ता; AAP नेता बोले- ये कॉमेडी नाइट्स का समय नहीं है
3 कोरोना को हमने हरा दिया है, 29 जनवरी को PM बोले थे यह बात- कांग्रेसी प्रवक्ता ने कहा, BJP पैनलिस्ट ने दिया जवाब
यह पढ़ा क्या?
X