ताज़ा खबर
 

एक और नियम! बिना FASTag टोल प्लाजा से निकले तो लगेगा दोगुना जुर्माना

केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने ऐलान किया है कि बिना फास्टैग के टोल प्लाजा से निकलने वाले फोर व्हीलरों को दोगुना टोल देना होगा।

नई दिल्ली | Updated: November 22, 2019 2:10 PM
टोल प्लाजा (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

राष्ट्रीय राजमार्गों पर एक दिसंबर के बाद यदि कोई वाहन फास्टैग के बिना टोल प्लाजा की फास्टैग लेन से गुजरता है तो उस वाहन चालक को दुगुना टोल भुगतान करना होगा। केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने गुरुवार (21 नवंबर) को यह बात कही। मामले में सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की प्रमुख पहल राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक पथकर संग्रह (एनईटीसी) के तहत एक दिसंबर से टोल भुगतान गेट से केवल फास्टैग के जरिए ही भुगतान होगा। जिन वाहनों में फास्टैग नहीं लगा होगा उन्हें फास्टैग वाहनों के लिए बनी लेन से निकलने पर दुगुनी राशि चुकानी होगी। हालांकि, टोल प्लाजा पर एक लेन ऐसी भी होगी जहां बिना-टैग वाले वाहनों से सामान्य टोल ही वसूला जायेगा।

इलेक्ट्रॉनिक तरीके से रीड किया जाएगा गाड़ियों का टैगः गडकरी ने इस मामले में बयान देते हुए कहा, ‘देशभर के राष्ट्रीय राजमार्गों पर 537 टोल प्लाजा पर बिना फास्टैग के वाहनों के फास्टैग वाली लेन से गुजरने पर एक दिसंबर से दोगुना शुल्क देना होगा।’ बता दें कि फास्टैग सुविधा के तहत वाहनों पर एक इलेक्ट्रॉनिक तरह से पढ़ा जाने वाला टैग लगा दिया जाता है। इसके बाद वाहन जब किसी टोल प्लाजा से गुजरता है तो वहां लगी मशीन उस टैग के जरिए इलेक्ट्रानिक तरीके से शुल्क वसूल कर लेती है। इससे वाहनों को चुंगी शुल्क गेट पर रुक कर नगद भुगतान नहीं करना होता।

Hindi News Today, 22 November 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की अहम खबरों के लिए क्लिक करें

जरूरत के हिसाब से रिचार्ज करना होगा फास्टैगः गडकरी ने यह भी कहा कि फास्टैग को लोकप्रिय बनाने के लिए भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) एक दिसंबर तक इसे निशुल्क बांटे रही है। हालांकि फास्टैग को वाहन चालक को अपनी जरूरत के मुताबिक चार्ज कराना होगा ताकि टोल प्लाजा से निकलते समय उससे टोल राशि का भुगतान पूरा किया जा सके। गौरतलब है कि एक दिसंबर के बाद एनएचएआई फास्टैग के लिए राशि लेगा।

अलॉटमेंट टोल से राजमार्ग निर्माण का होगा लाभः फास्टैग मामले में गडकरी ने कहा कि अगले पांच साल में एनएचएआई की सालाना आय बढ़कर एक लाख करोड़ रुपए तक पहुंच जाने की उम्मीद है। वहीं अगले दो साल में एनएचएआई का टोल राजस्व 30 हजार करोड़ रुपए तक पहुंच जाने का अनुमान है। मंत्री ने यह भी कहा कि एनएचएआई के समक्ष किसी तरह की वित्तीय समस्या नहीं है और राजमार्गों के तीसरे आवंटन में बुधवार को 5,011 करोड़ रुपए मिले है। क्यूबे हाईवे इसमें विजेता बनकर उभरी है। गडकरी ने बताया कि राजमार्ग निर्माण के लिए यह अलॉटमेंट टोल, आपरेट, ट्रांसफर (टीओटी) आधार पर हुआ है।

Next Stories
1 ‘साध्वी प्रज्ञा के दिमाग से पाकिस्तान का सफाया करना चाहती होगी मोदी सरकार’, कमल नाथ के मंत्री का बड़ा बयान
2 राम-कृष्ण के इतिहास पर AAP नेता ने उठाए सवाल! कुमार विश्वास बोले- आत्ममुग्ध बौने के मंत्री, विधानसभा चुनाव में मिल जाएगा जवाब
3 Maharashtra Government Formation: संजय राउत बोले- इंद्र का सिंहासन मिल जाए तो भी बीजेपी से गठबंधन नहीं करेगी शिवसेना
ये पढ़ा क्या?
X