ताज़ा खबर
 

इस वक्त तबादला करने वाले अफसरों का हो हर हफ़्ते तबादला- बैंकों में तबादले पर रवीश कुमार की तंज भरी टिप्पणी

रवीश कुमार ने एक फेसबुक पोस्ट में कहा कि जो भी अफ़सर इस कठिन वक्त में कर्माचारियों का तबादला कर रहे हैं, उनका हर हफ्ते तबादला होना चाहिए।

लॉकडाउन के दौरान बैंक के बाहर लगी कतार। सांकेतिक तस्वीर। फोटो- पीटीआई

बैंक में कर्मचारियों के तबादले को लेकर रवीश कुमार ने तंजभरी टिप्पणी की है। उन्होंने कहा कि इस कठिन समय में बैंकों में तबादले बंद कर देना चाहिए। केवल तबादला करने वाले अफ़सरों का हर हफ्ते तबादला होना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस तबाही में भी बैंकों में तबादले नहीं रुक रहे हैं औऱ अधिकारियों के पास ऐसा करने की फुरसत भी है। अगर तबादले हो रहे हैं तो इसका फ़ैसला करने वाले लोग वास्तव में मूर्ख और दंभी हैं।

कोरोना काल में कर्मचारियों की चिंता करते हुए उन्होंने कहा कि अगर इस वक्त में तबादला होगा तो घर का सामान भी पैक होगा और एक शहर से दूसरे शहर में भी जाना पड़ेगा। किसी को अपना परिवार भी पीछे छोड़ना पड़ेगा। सरकार को चाहिए कि इस समय जितने अफ़सर तबादले से जुड़े हैं, उनका हर हफ्ते तबादला हो।

अफ़सरों पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा, लॉकडाउन लग रहा है और बैंकों के अफ़सर तबादला किए जा रहे हैं। कमाल ही है फ़ालतू की अफ़सरी के दंभीपन का। कुछ काम नहीं है तो अफ़सरी दिखाओ। रवीश कुमार ने कहा कि बहुत सारे बैंककर्मी संक्रमित हो रहे हैं और उनकी जान जा रही है। अर्थव्यवस्था ठप नहीं हो सकती इसलिए उन्हें बैंक तो आना पड़ेगा। इस समय बैंक में काम के लिए जाना और अस्पताल में इलाज के लिए जाना एक जैसा हो गया है।

दरअसल उन्होंने फेसबुक पर एक बैंककर्मी के लिए प्लाज्मा की रिक्वेस्ट की थी। उन्होंने यह भी कहा कि बैंकों को अपने कर्मचारियों के लिए प्लाज्मा बैंक तैयार करना चाहिए और कोविड से निपटने में दिमाग लगाना चाहिए। बता दें कि रवीश कुमार इस दौर में सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों की मदद करने की कोशिश करते हैं और जरूरतमंद लोगों की डीटेल शेयर करते हैं।

कुछ दिन पहले ही रवीश कुमार ने कोरोना को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को निशाने पर लिया था। रवीश कुमार ने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट हर्षवर्धन को हर दिन छह घंटे खड़ा रखे और कुर्सी पर न बैठने दे। हम लोगों को भी पता चले कि हजारों करोड़ों के मंत्रालय के शीर्ष पर बैठा यह शख्स आखिर कर क्या रहा है।

Next Stories
1 COVID-19 पीड़ितों के मददगार बने IYC के श्रीनिवास के कंट्रोल रूम में हमेशा रहते हैं 100 कार्यकर्ता, जानें- कैसे पहुंचाते हैं मदद?
2 कोरोनाः अध्ययनों के बीच गांवों में फैलने लगी महामारी, नेताओं की रैलियों से पहले ही दूसरी लहर ने दे दी थी दस्तक!
3 कोरोना और चुनावः मद्रास HC के फैसले के खिलाफ याचिका दायर करने पर EC के वकील का इस्तीफा, कहा- मेरी नैतिकता काम के हिसाब से नहीं
ये  पढ़ा क्या?
X