ताज़ा खबर
 

मिशन 2019: केंद्रीय मंत्री ने 300 बिशप को लिखी चिट्ठी, बताई मोदी सरकार की उपलब्धियां

अल्फॉन्स ने पत्र में मोदी सरकार की जिन उपलब्धियों का जिक्र किया है उनमें साढ़े 9 करोड़ शौचालयों का निर्माण, 5.8 करोड़ एलपीजी सिलेंडरों का वितरण कमजोर तबकों के लिए 30 करोड़ बैंक खातों का खोला जाना, 2.63 करोड़ घर और गरीबों के लिए 5 लाख रुपये तक के मुफ्त चिकित्सा उपचार जैसी बातें शामिल हैं।

केंद्रीय मंत्री केजे अल्फोंस ने ईसाई समुदाय को साधने के लिए क्रिसमस पर 300 से ज्यादा बिशप को पत्र लिखा है, जिसमें मोदी सरकार की उपलब्धियां गिनाई हैं। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारियों के लिए लगभग हर दल ने अभी से कमर कस ली है लेकिन भारतीय जनता पार्टी ने इस बार ईसाई समुदाय को साधने के लिए खास तैयारी की है। केंद्र सरकार में पर्यटन राज्य मंत्री केजे अल्फोंस ने हर बार की तरह इस बार भी ईसाई समुदाय को क्रिसमस की बधाइयां दी हैं। उन्होंने 300 से ज्यादा बिशप को खास पत्र लिखे हैं जिनमें केंद्र सरकार की उपलब्धियों का भी जिक्र किया गया है और यह भी बताया गया है कि सरकार ने पिछड़ों और दलितों के लिए क्या किया है। समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार अल्फॉन्स ने पत्र में मोदी सरकार की जिन उपलब्धियों का जिक्र किया है उनमें साढ़े 9 करोड़ शौचालयों का निर्माण, 5.8 करोड़ एलपीजी सिलेंडरों का वितरण कमजोर तबकों के लिए 30 करोड़ बैंक खातों का खोला जाना, 2.63 करोड़ घर और गरीबों के लिए 5 लाख रुपये तक के मुफ्त चिकित्सा उपचार जैसी बातें शामिल हैं।

पत्र में अल्फॉन्स ने लिखा है, ”मैरी क्रिस्मस। ईश्वर की शांति और खुशी आपके और आपके सूबे के साथ हो। दुनिया को सबसे ज्यादा जरूरत एकजुट होने की है, दीवारें बनाने की नहीं। मुझे यह बताते हुए हर्ष हो रहा है कि शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और दबे-कुचलों के कल्याण के लिए चर्च द्वारा अच्छी सेवाएं प्रदान की जा रही हैं।” अल्फॉन्स ने आगे लिखा, ”माननीय प्रधान मंत्री के नेतृत्व में पर्यटन मंत्री के रूप में भारत के लोगों की सेवा करना मेरा विशेषाधिकार रहा है। विनम्रता के साथ कहना चाहूंगा, कृपया मुझे उन कुछ चीजों को सूचीबद्ध करने की अनुमति दें जो मोदी सरकार ने कमजोर तबकों के लिए की है।”

केंद्रीय मंत्री ने पत्र में यह भी लिखा, ”जब भी चर्च का कोई मामला हुआ, मैं उसे उपयुक्त अथॉरिटी के पास ले गया और अक्सर हम समाधान ढूंढने में सक्षम रहे हैं।” बता दें कि हाल में पांच राज्यों के चुनाव परिणामों के बाद जो राजनीतिक समीकरण बने हैं, उन्होंने भारतीय जनता पार्टी की चिंता बढ़ाई है। बीजेपी के हाथ से राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के रूप में तीन बड़े हिंदी भाषी राज्य पिसल गए। उधर, कांग्रेस ने विपक्ष को एकजुट करने की तैयारियां भी शुरू कर दी है। राजनीतिक पंडितों की मानें तो आने वाले आम चुनाव दिलचस्प होंगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 AMU के पूर्व वीसी बोले- खत्‍म हो समाज को बांटने का पागलपन, भाई नसीरुद्दीन की चिंता जायज
2 कंप्यूटरों की निगरानी का केसः सीताराम येचुरी ने पूछा- हर देशवासी को अपराधी क्यों मान रही मोदी सरकार?
3 सोहराबुद्दीन केस: जज ने कहा- मैं असहाय हूं, गवाह पलट जाएं तो कुछ नहीं क‍िया जा सकता