ताज़ा खबर
 

पत्‍नी से म‍िलने जा रहा था लश्‍कर आतंकी अबु दुजाना, म‍िली मौत, अय्याशी के ल‍िए भी था कुख्‍यात

दुजाना कश्मीर घाटी में लश्कर का कमांडर था, लेकिन कुछ महीने पहले संगठन में विवाद के कारण उसे किनारे कर दिया गया था। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक सेना के अधिकारी ने कहा कि अबु दुजाना वास्तव में कई हमलों में शामिल नहीं रहा था, वो यहां अय्याशी कर रहा था बस।
सुरक्षाबलों ने आतंकी अबु दुजाना को मंगलवार (एक अगस्त) को मार गिराया था।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षा बलों ने बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए जम्मू-कश्मीर में मोस्ट वॉन्टेड की लिस्ट में शुमार लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर अबु दुजाना को मार गिराया है। एनकाउंटर में अबु दुजाना के अलावा एक और आतंकी भी मारा गया है। सेना और सुरक्षाबलों के ज्वाइंट ऑपरेशन के दौरान प्रदर्शनकारियों ने जवानों पर पत्थरबाजी की। जिसके जवाब में फायरिंग में एक नागरिक की भी मौत हो गई। जब सुरक्षाबलों सुबह 4.30 बजे क्षेत्र की घेराबंदी की तो अबु दुजाना हकरीपोरा गांव में अपने एक साथ आरिक लिलहारी के साथ एक घर में छुपा हुआ था। खुफिया इनपुट के आधार पर सुरक्षाबलों ने कार्रवाई को अंजाम दिया।

एनडीटीवी ने अपने सूत्रों के हवालों से बताया कि पाकिस्तान में जन्मा दुजाना अपनी पत्नी से मिलने जा रहा था। पुलिस ने उसके पुराने दौरे को देखते हुए उसे ट्रैक कर रही थी। सूचना मिलने के बाद पुलिस ने घर पर नजर रखने के लिए कहा था और सुरक्षा बल वहां करीब 2 घंटे से चुपचाप उसका इंतजार कर रहे थे। जैसे ही सुरक्षाबल वहां पहुंचे आतंकियों ने फायरिंग करना शुरू कर दिया। सूत्रों के मुताबिक सुरक्षाकर्मियों ने घर को आग लगा दिया, क्योंकि उनके पास और कोई विकल्प नहीं था। दुजाना कश्मीर घाटी में लश्कर का कमांडर था, लेकिन कुछ महीने पहले संगठन में विवाद के कारण उसे किनारे कर दिया गया था। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक सेना के अधिकारी ने कहा, “अबु दुजाना वास्तव में कई हमलों में शामिल नहीं रहा था, वो यहां अय्याशी कर रहा था बस। वह अय्याशी में लिप्त था।” दुजाना के सिर पर 15 लाख रुपए का इनाम था और घाटी के टॉप आतंकियों में शामिल था।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि मृतक की पहचान के बारे में आधिकारिक रूप से कुछ नहीं बताया गया है लेकिन उसे अस्पताल लाने वाले स्थानीय लोगों ने बताया कि उसका नाम फिरदौस अहमद था। अधिकारी ने बताया कि गोली लगने से घायल एक व्यक्ति को जब पुलवामा जिला अस्पताल लाया गया, तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। मुठभेड़ स्थल के निकट हिंसक प्रदर्शनकारियों के खिलाफ सुरक्षा बलों की कार्रवाई में कम से कम छह अन्य लोग घायल हो गए। अधिकारी ने बताया कि 100 से अधिक ‘‘शरारती तत्वों’’ ने पुलवामा के हकरीपोरा में आतंकवाद विरोधी अभियान में शामिल सुरक्षाबलों पर पथराव शुरू कर दिया। उन्होंने बताया कि सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों को तितर बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले, पेलेट और गोलियों का इस्तेमाल किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.