ताज़ा खबर
 

दीनदयाल उपाध्याय ने लिखा था, सहिष्णुता भारतीय संस्कृति का आधार है, लोकतंत्र केवल बहुमत का राज नहीं

उपाध्याय के मुताबिक लोकतंत्र की मुख्यधारा सहिष्णु रही है। इसके बिना चुनाव, विधायिका आदि कुछ भी नहीं है। सहिष्णुता भारतीय संस्कृति का आधार है।
Author नई दिल्ली | March 14, 2016 13:50 pm
Illustration by C R Sasikumar

पंडित दीनदयाल उपाध्याय का जन्म 25 सितंबर 1916 को यूपी के नागला चंद्रबान गांव में हुआ था। यह गांव मथुरा से 30 किलोमीटर दूर स्थित है। जब उपाध्याय लोगों के बीच मशहूर हो रहे थे, तब 11 फरवरी 1968 को मुगलसराय रेलवे स्टेशन पर वे मृत मिले थे। उनकी मौत की वजह का खुलासा अभी तक नहीं हुआ है। भाजपा और आरएसएस उनकी जन्म शताब्दी मना रही हैं। मौजूदा सामाजिक-आर्थिक विचारों के खिलाफ अपने ‘ एकात्म मानववाद ‘ को बढ़ाने के लिए शताब्दी मनाई जा रही है। ऐसे में हम आपको बता रहे हैं दीन दयाल उपाध्याय के सहिष्णुता पर विचार।

Read Also: गोमांस खाने के लिए लोगों की हत्या ‘असहिष्णुता’ नहीं बल्कि ‘जघन्य अपराध’: तसलीमा

उपाध्याय के असहिष्णुता के मुद्दे पर विचारों का उनके लेखन में कई जगह जिक्र देखने को मिलता है। उन्होंने कहा था, ‘वैदिक सभा और समितियां लोकतंत्र के आधार पर आयोजित की जाती हैं और मध्यकालिन भारत के कई राज्य पूरी तरह से लोकतांत्रिक थे।’ एक समारोह में उनके उस बयान को दोहरा गया, जिसमें उन्होंने कहा था, ‘आपने जो कहा मैं उसे नहीं मानता, लेकिन आपके ये कहने के अधिकार की मैं आखिरी वक्त तक रक्षा करूंगा।’

Read Also: सोनम ने कहा, सिर्फ़ भारत में नहीं है नस्ली भेदभाव और असहिष्णुता

उपाध्याय के मुताबिक लोकतंत्र की मुख्यधारा सहिष्णु रही है। इसके बिना चुनाव, विधायिका आदि कुछ भी नहीं है। सहिष्णुता भारतीय संस्कृति का आधार है। यह हमें ये ढूढ़ने की ताकत देता है कि जनता की क्या इच्छाएं हैं। दूसरी जगह उन्होंने लिखा है कि लोकतंत्र केवल बहुमत का राज नहीं है। इस सिस्टम में जनता का एक वो हिस्सा भी होगा जिसकी आवाज को दबाया जाएगा, हालांकि ये सही भी हो सकता है। इसलिए अगर कोई बहुमत से अलग मत रखता है, चाहें वो अकेला ही क्यों न हो। उसके विचारों की इज्जत की जानी चाहिए और शासन में शामिल किया जाना चाहिए।

Read Also: गोमांस खाने के लिए लोगों की हत्या ‘असहिष्णुता’ नहीं बल्कि ‘जघन्य अपराध’: तसलीमा

साथ ही उन्होंने भीड़ के शासन के खिलाफ भी लिखा था। उन्होंने एक जगह लिखा है कि जो लोग ब्रूटस के साथ मिलकर कुछ पल पहले जूलियस सीजर की हत्या का जश्न मना रहे थे, वही लोग मार्क एंटनी के भाषण के बाद ब्रूटस के खिलाफ हो गए। इसलिए लोकतंत्र को सरकार के दो रूपों भीड़तंत्र और निरंकुशता के बीच जिंदा रखना मुश्किल है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.