scorecardresearch

मैडम मैं आपसे 15 लाख रुपए की शर्त लगाऊंगी, अगर… Freebies को लेकर FM पर महुआ का तंज

Freebies issue: जुलाई में पीएम मोदी ने अपने भाषणों में इस मुद्दे को उठाया था। पीएम मोदी ने अपने एक भाषण में ‘रेवाड़ी कल्चर’ का जिक्र करते हुए लोगों को इसके खिलाफ आगाह किया था।

मैडम मैं आपसे 15 लाख रुपए की शर्त लगाऊंगी, अगर… Freebies को लेकर FM पर महुआ का तंज
टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा Photo Credit- Facebook

Freebies issue: मुफ्त उपहार को लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर तंज कसते हुए टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा ने चैलेंज किया है। दरअसल वित्त मंत्री ने शनिवार को कहा था कि जब राज्य सरकारें चुनाव से पहले रियायतों के वादे करती हैं, तो उन्हें राजकोष की हालत को भी देखना चाहिए ताकि जब वे जीतकर सत्ता में आएं तो लोगों से किए अपने वादे निभा सकें।

इस बयान पर टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा ने सीतारमण को चैलेंज किया है। उन्होंने एक अखबार का स्क्रीनशॉट साझा किया और कहा कि अरे…मैडम..मैं आपसे 15 लाख रुपए की शर्त लगाऊंगी। आप यह बात मोदीजी के सामने नहीं कह सकती। बता दें कि बेंगलुरू में भाजपा के आर्थिक प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित संवाद कार्यक्रम में वित्त मंत्री ने कहा कि यह मुफ्त का वाद बिजली फ्री देने जैसा, कुछ भी हो सकता है।

उन्होंने कहा कि मैं यह नहीं कह रही कि आपको ऐसा नहीं करना चाहिए। लेकिन उससे पहले आपको राज्य की आर्थिक स्थिति भी जांचनी चाहिए। जिससे सत्ता में आने के बाद आप अपने वादे को पूरा कर सके। क्योंकि आपने एक वादा किया है और इसे सुनिश्चित करें कि कैसे आपके बजट में इसके लिए प्रावधान होगा।

गौरतलब है कि मुफ्त के ऐलान को लेकर इन दिनों खूब चर्चा छिड़ी है। केंद्र और आम आदमी पार्टी के बीच इस मुद्दे लेकर काफी बयानबाजी देखने को मिल रही है। दरअसल बीती जुलाई में पीएम मोदी ने अपने भाषणों में इस मुद्दे को उठाया था। पीएम मोदी ने अपने एक भाषण में ‘रेवाड़ी कल्चर’ का जिक्र करते हुए लोगों को इसके खिलाफ आगाह किया था।

वहीं इसके जवाब में आप संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मुफ्त स्वास्थ्य सेवा, फ्री बस यात्रा, शिक्षा फ्री करना मुफ्त की चीजें नहीं है, बल्कि दोस्तों का कर्ज माफ करना है मुफ्त करना है। वहीं फ्री की चीजों पर छिड़ी बहस पर निर्मला सीतारमण ने कहा कि स्वास्थ्य और शिक्षा को मुफ्त करने को लेकर आजादी के बाद से किसी भी सरकार ने कभी भी नकारा नहीं है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट