ताज़ा खबर
 

टीपू सुल्तान जयंती समारोहों को लेकर हिंसा, विहिप नेता की मौत

कर्नाटक में मंगलवार सुबह विश्‍व हिंदू परिषद (वीएचपी) के एक कार्यकर्ता की मौत हो गई। वह टीपू सुल्‍तान की जयंती मनाए जाने का विरोध करने के दौरान घायल हुआ था।

Author मादीकेरी (कर्नाटक) | Updated: November 11, 2015 12:53 AM
मंगलवार को कर्नाटक में टीपू सुलतान जयंती समारोह के दौरान दो समूहों के आपसी भिड़ंत के बाद वहां का हाल बयां करती तस्वीर। (पीटीआई फोटो)

टीपू सुल्तान की जयंती पर समारोह आयोजित करने को लेकर कर्नाटक में फैली हिंसा में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के एक स्थानीय नेता की जान चली गई। हिंसक घटनाओं में कई लोग घायल हुए हैं। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के अनुसार 60 साल के विहिप नेता कुटप्पा की एक दीवार से गिरने से मौत हो गई। वे समारोहों के खिलाफ जिले में बंद के दौरान पथराव कर रही भीड़ से बचने की कोशिश कर रहे थे। उन्होंने बताया कि गंभीर रूप से घायल दो अन्य लोगों की भी पहचान हो गई है। कुछ अज्ञात लोगों द्वारा की गई गोलीबारी में कोई घायल नहीं हुआ है, जैसा शुरू में समझा गया था। पुलिस के अनुसार गड़बडी उस समय शुरू हुई जब लोगों के एक समूह ने आयोजन स्थल तक जुलूस ले जाने पर आपत्ति की और उन पर पथराव किया गया। इसके बाद आंसू गैस के गोले दागे गए और लाठीचार्ज किया।

भाजपा और कुछ अन्य संगठनों ने सरकार की ओर से पहली बार टीपू सुल्तान की जयंती मनाने के फैसले के विरोध में बंद का आह्वान किया था। भाजपा ने टीपू सुल्तान को ‘धार्मिक रूप से कट्टर’ बताते हुए समारोहों का बहिष्कार करने की घोषणा की थी।

प्रदर्शन को देखते हुए चामराजनगर और मैसूर जिलों से मादीकेरी के लिए अतिरिक्त बलों को भेजा गया है और पूरे जिले में निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) आलोक मोहन ने कहा कि एक व्यक्ति दीवार से गिर गया, उनके सिर में चोट लगी और मौत हो गई।

टीपू सुल्तान हिंदू होते तो उनका कद शिवाजी की तरह होता: गिरिश कर्नाड

PHOTOS: टीपू सुलतान जयंती को लेकर दो समूहों में झड़प 

तोगड़िया की अपील- हिंदुओं को धार्मिक कट्टरता से बचाए मोदी सरकार

पुलिस ने कहा कि एक अन्य व्यक्ति की एक अस्पताल की सीढ़ियों से गिरने के कारण मौत हो गई। उन्होंने हिंसा की घटना से इसको जोड़े जाने की रिपोर्टों को खारिज कर दिया। पुलिस महानिरीक्षक (दक्षिणी रेंज) बीके सिंह ने कहा कि टाउन हाल में टीपू जयंती मनाने के लिए एक समारोह का आयोजन किया गया था और आयोजकों को इसे हाल के अंदर ही आयोजित करने को कहा गया था। उन्होंने कहा कि हमने प्रदर्शन को प्रतिबंधित कर दिया था। विरोधी समूह ने काला झंडा दिखाने का कार्यक्रम आयोजित किया था। जब जुलूस निकाला जा रहा था तो उन्हें वहां रोक दिया गया क्योंकि इसके लिए अनुमति नहीं थी। लेकिन वे लोग हमारी बात से सहमत होने को तैयार नहीं थे, इसलिए उन्हें तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज किया गया और आंसू गैस के गोले दागे गए तथा उन्हें वापस भेज दिया गया और धारा 144 लागू कर दी गई।

उन्होंने कहा कि करीब 60 साल के कुट्प्पा की मौत हो गई। पथराव हुआ और उससे बचने की कोशिश में वे दीवार से गिर गए और मौत हो गई। उन्होंने कहा- कोई गोली नहीं चलाई गई या कोई इससे घायल नहीं हुआ। सोहिल नामक एक व्यक्ति को लाठीचार्ज के दौरान सिर में चोट लगी। उसे मैसुरू अस्पताल ले जाया गया है।
हालांकि चश्मदीदों ने दावा किया कि कुट्प्पा को पथराव के दौरान सिर में गंभीर चोटें आईं और वे गिर गए और उनकी तत्काल मौत हो गई।

मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने हिंसा के लिए बंद के आह्वान को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि यह कानून व्यवस्था की समस्या पैदा करने व शांति को बाधित करने का प्रयास था। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से कोई गलती नहीं थी। उन्हें बंद का आह्वान नहीं करना चाहिए था। भाजपा के आरोपों पर सिद्धरमैया ने कहा-‘इसके लिए वे जिम्मेदार हैं। उन्होंने टीपू जयंती समारोह को बाधित करने का प्रयास किया है।’

कर्नाटक भाजपा ने घटना की न्यायिक जांच की मांग की और पीड़ित के परिवार को 25 लाख रुपए का मुआवजा दिए जाने व कथित तौर पर दोषी पुलिस अधिकारियों को निलंबित करने की मांग की। भाजपा ने विहिप कार्यकर्ता की मौत के लिए कर्नाटक सरकार पर निशाना साधा। भाजपा सचिव श्रीकांत शर्मा ने दिल्ली में कहा-‘विरोध करने की आजादी है। प्रदर्शनकारियों के खिलाफ कर्नाटक पुलिस द्वारा बल प्रयोग असहिष्णुता की पराकाष्ठा है।’ उन्होंने सिद्धरमैया के उस बयान की भी निंदा की जिसमें उन्होंने हिंसा के लिए विहिप के बंद को दोषी ठहराया है।

Read Also

 

जामा मस्जिद के शाही इमाम के बेटे ने की हिंदू लड़की से शादी: रिपोर्ट

भाजपा बोली- कट्टर मुसलमान था टीपू सुल्‍तान, कांग्रेस ने बताया सेकुलर

सांसद भोला सिंह बोले- प्रधानमंत्री को किसी की बेटी के बारे में नहीं बोलना था

इखलाक का बेटा बोला- बिहार चुनाव में BJP की हार मेरे पिता को देश की श्रद्धांजलि

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 संघ प्रमुख भागवत बोले- बिहार में कम्‍युनल कैंपेन की वजह से हारी बीजेपी
2 हार पर मंथन शुरू, पर इन 4 सवालों का जवाब नहीं खोजा तो खतरे में पड़ेगी भाजपा
3 हार पर पाकिस्‍तानी अखबारों का वार, लिखा- बिहार वाले ले गए मोदी के पटाखे
यह पढ़ा क्या?
X