ताज़ा खबर
 

दिल की आवाज पर बौद्ध धर्म गुरु ने त्यागा संन्यासी जीवन, दिल्ली में रहने वाली बचपन की दोस्त से किया विवाह

थाए दोरजी ने गुरुवार (30 मार्च) को एक आधिकारिक घोषणा में कहा कि उन्होंने नयी दिल्ली में एक निजी समारोह में 25 मार्च को अपने बचपन की मित्र रिनचेन यांगजोम से विवाह कर लिया है।

तस्वीर में सबसे बायीं ओर बैठी रिनचेन यांगजोम और उनके ठीक पास बैठे थाए दोरजी ने शादी कर ली है (Source-Karmapa.org)

तिब्बत के एक वरिष्ठ लामा ने अब गृहस्थ जीवन अपना लिया है। थाए दोरजी (33) ने अपने बचपन की दोस्त रिनचेन यांगजोम (36) से विवाह कर संन्यास जीवन को त्याग दिया है। थाए दोरजी बचपन से ही दावा करते आ रहे थे कि वे करमापा लामा के अवतार हैं। करमापा लामा को तिब्बती बौद्ध की चार अहम शाखाओं में से एक का नेता माना जाता है। थाए दोरजी खुद को करमा काग्यु बौद्ध के नेता के रुप में बताते रहे हैं, लेकिन इस शाखा के कई मानने वाले उग्येन त्रिनले को अपना नेता मानते हैं। बौद्ध धर्म के सर्वोच्च गुरु दलाई लामा ने इन्हें भी मान्यता दे रखी है।

थाए दोरजी ने गुरुवार (30 मार्च) को एक आधिकारिक घोषणा में कहा कि उन्होंने नयी दिल्ली में एक निजी समारोह में 25 मार्च को अपने बचपन की मित्र रिनचेन यांगजोम से विवाह कर लिया है। अपने बयान में उन्होंने कहा, ‘ मुझे पक्का विश्वास है, ये मेरे दिल की आवाज है कि शादी करने का मेरे फैसले का सिर्फ मेरे ऊपर ही नहीं बल्कि बौद्ध परंपरा पर भी सकारात्मक असर पड़ेगा, इससे हमसभी लोगों के लिए कुछ सुंदर, कुछ लाभप्रद होगा।’ उनके दफ़्तर से जारी बयान के मुताबिक थाए दोरजी शादी के बावजूद करमापा के रोल को निभाते रहेंगे, और वे दुनिया भर के अपने छात्रों को शिक्षा और आशीर्वाद देते रहेंगे।

उनकी पत्नी रिनचेन यांगजोम का जन्म भूटान में हुआ था, लेकिन उनकी पढ़ाई भारत और विदेशों में हुई है। जबकि थाए दोरजी का जन्म तिब्बत में हुआ था, उनके पिता भी लामा परंपरा में अहम स्थान रखते हैं, जबकि उनकी मां तिब्बती राजघरानों से आती हैं। थाए दोरजी की आधिकारिक जीवनी के मुताबिक जब वो डेढ़ साल के ही थे तो उन्होंने लोगों को कहना शुरू कर दिया था कि वे करमापा हैं। तिब्बती परंपरा के मुताबिक बौद्ध धर्म के मानने वाले लोग एक ऐसे बच्चे को करमापा लामा का अवतार घोषित करते हैं जो करमापा के जैसा भाव और व्यवहार दिखाता है।

महाराष्‍ट्र के भीरा में दर्ज हुआ दुनिया का दूसरा सबसे ज्‍यादा तापमान, 46.5 डिग्री पार कर गया पारा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 नेहरू और इंदिरा गांधी के बाद नरेंद्र मोदी भारत के तीसरे सबसे सफल प्रधानमंत्री होंगे: राम चंद्र गुहा
2 हिज्बुल मुजाहिद्दीन कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद 6 साल में सबसे ज्यादा कश्मीरी युवाओं ने पकड़ी आतंक की राह
ये पढ़ा क्या?
X