ताज़ा खबर
 

Thunderstorm Warning: उत्तर भारत में अगले तीन दिन रहेगा आंधी का खतरा, मौसम विभाग की ताजा चेतावनी

Thunderstorm Warning Today in Delhi, North India: पिछले हफ्ते आए तूफान में अकेले उत्तर प्रदेश में 18 लोगों की मौत हो गई थी। 27 लोग बुरी तरह जख्मी भी हुए थे।

फाइल फोटो (पीटीआई)

Thunderstorm Warning: पिछले लगभग 15 दिनों से रह-रहकर आंधी-तूफान का सामना कर रहे दिल्ली-एनसीआर के लोगों को एक बार फिर तेज आंधी का सामना करना पड़ सकता है। दिल्ली-एनसीआर के कई इलाकों में धूल भरी आंधी चल रही है तो वहीं इससे सटे राज्य हरियाणा के झज्जर जिले में तेज हवा से कई जगह पेड़ गिर गए हैं, इससे वाहन चालकों के साथ पैदल चलने वालों को भी खासी दिक्कत पेश आ रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक झज्जर में तेज हवाओं के साथ बारिश भी हो रही है। तेज आंधी और बारिश को देखते हुए झज्जर के कई इलाकों में बिजली काट दी गई है। वहीं, भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) के मुताबिक, पश्चिमी विक्षोभ के चलते आने वाले तीन दिनों में दिल्ली-एनसीआर ही नहीं, बल्कि देश के कई राज्यों में फिर आंधी-तूफान आ सकता है। इसका असर पहले से कहीं ज्यादा होगा।

बता दें कि पिछले हफ्ते आए तूफान में अकेले उत्तर प्रदेश में 18 लोगों की मौत हो गई थी। 27 लोग बुरी तरह जख्मी भी हुए थे। अगर इस महीने आए तूफान से तबाही के देशभर के आंकड़े जोड़े जाएं तो अब तक कुल 134 लोगों की मौत हो चुकी है वहीं 400 से ज्यादा लोग घायल भी हुए थे। इनमें से सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश में 80 मौतें हुई थीं।

इससे पहले मंगलवार की देर रात करीब तीन बजे जब दिल्ली सोई हुई थी, तब भी तेज हवाओं के साथ आंधी आई थी। रात में ही तेज हवाओं से अफरा तफरी का माहौल पैदा हो गया था। सड़कों पर लगे बैनर उड़ गए थे। 20 मिनट की तेज आंधी में कई जगह पेड़ गिर गए तो कई जगह पेड़ों की टहनियां टूटकर जमीन पर आ गिरीं। विजय चौक के पास कई बैरिकेड्स गिर गए। दिल्ली के लोधी कॉलोनी में एक बड़ा पेड़ दो लक्जरी कारों पर गिर गया। हाल फिलहाल में आए तूफानों ने पूरे उत्तर भारत को हिला दिया है। यूपी में तूफान से बड़े पैमाने पर जान और माल का नुकसान हो चुका है। मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो अभी 3 से 4 दिन दिल्ली एनसीआर और यूपी में मौसम का मिजाज बिगड़ा ही रहने वाला है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App