ताज़ा खबर
 

पुणे में फंसी थी 32 कश्मीरी लड़कियां, दिल्ली के तीन लोगों ने यूं ‘भाईजान’ बन पहुंचाया श्रीनगर

मानवता की मिसाल देते हुए इन तीन सिखों ने पुणे में फंसीं कश्मीरी लड़कियों की भाईजान बनकर मदद की। दरअसल, दिल्ली के सॉफ्टवेयर इंजीनियर सिख युवक ने धारा 370 हटने के बाद फेसबुक लाइव कर फंसे हुए कश्मीरियों की मदद का वादा किया था।

Author नई दिल्ली | Published on: August 18, 2019 9:29 PM
मानवता की मिसाल देते हुए इन तीन सिखों ने पुणे में फंसीं कश्मीरी लड़कियों की भाईजान बनकर मदद की। (स्क्रीनशॉट)

कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने का बाद देश के अलग-अलग हिस्सों में रह रहे कश्मीरियों का संपर्क कुछ दिन के लिए अपने घर वालों से टूट गया। ऐसे में दिल्ली के तीन सिख लोगों ने कश्मीर की 32 लड़कियों को उनके घर सही सलामत पहुंचाया। मानवता की मिसाल देते हुए इन तीन सिखों ने पुणे में फंसीं कश्मीरी लड़कियों की भाईजान बनकर मदद की। दरअसल, दिल्ली के सॉफ्टवेयर इंजीनियर सिख युवक ने धारा 370 हटने के बाद फेसबुक लाइव कर फंसे हुए कश्मीरियों की मदद का वादा किया था।

बाद में उसके साथ दो और सिख जुड़ गए। इन तीनों के पास पुणे से फोन आया कि कश्मीर की 32 लड़कियां अपने घर से संपर्क में नहीं हैं।ये सभी लड़कियां पुणे में नर्सिंग का कोर्स कर रही थीं। वह अपने घर वालों से मिलना चाहती हैं। इसके बाद यह लड़किया गुरुद्वारे पहुंचीं। इसके बाद इन लड़कों ने सोशल मीडिया के जरिए सोशल फंडिंग की और मदद के लिए लगभग साढ़े तीन लाख रुपए इकट्ठे हो गए। इसके बाद उन्होंने एयर टिकट के जरिए इन लड़कियों को कश्मीर पहुंचाया।

इतना ही नहीं सुरक्षा के मद्देनजर उन्होंने खुद लड़कियों के साथ कश्मीर जाने का फैसला किया जिसके बाद एक-एक कर सभी लड़कियों को शोपियां, गुलमर्ग समेत कश्मीर के अन्य इलाकों में उनके घर पहुंचाया गया। लड़कियों के परिजनों ने तीनों लड़कों का धन्यवाद किया। इन तीन सिख लड़कों की कहनी के बारे में जो भी सुन रहा है काफी तारीफ कर रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 जन्म देते ही मर गई मां, पिता ने पालने में जताई असमर्थता तो डीएम ने फौरन ले लिया गोद
2 EWS कैटगरी के छोटे कर्ज माफ कर सकती है सरकार, पांच साल बाद ही मिलेगा दोबारा लाभ
3 ‘हफ्ते में 20 घंटे, साल में 190 दिन पढ़ाई, होमवर्क नहीं’, फिनलैंड जैसी शिक्षा नीति चाहते हैं संघ प्रमुख मोहन भागवत