कश्मीर पर महबूबा के रुख से पार्टी में बगावत, नाराज होकर तीन नेताओं ने दिया पार्टी से इस्तीफा

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती को भेजे त्यागपत्र में इन नेताओं ने कहा कि वो उनके कुछ कार्यों और बयानों से असहज महसूस कर रहे थे, जिनसे उनकी देशभक्ति की भावना आहत हुईं है।

mehbooba mufti, jammu kashmir, article 370, mohsin raza
जम्मू कश्मीर की पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

जम्मू-कश्मीर की पूर्व सीएम और पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती की एक टिप्पणी पर नाराजगी जताते हुए पार्टी के तीन नेताओं ने इस्तीफा दे दिया। इन नेताओं ने कहा कि महबूबा के बयान से उनकी देशभक्ति की भावना आहत हुई हैं। सोमवार (26 अक्टूबर, 2020) को पीडीपी नेता टीएस बाजवा, वेद महाजन और हुसैन ए. वफा ने अपने त्यागपत्र पीडीपी चीफ को भेज दिए।

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती को भेजे त्यागपत्र में इन नेताओं ने कहा कि वो उनके कुछ कार्यों और बयानों से असहज महसूस कर रहे थे, जिनसे उनकी देशभक्ति की भावना आहत हुईं है। जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान निरस्त करने से एक दिन पहले यानी चार अगस्त (2019) को महबूबा मुफ्ती को हिरासत में ले लिया गया था। करीब 14 महीने पीएसए के तहत हिरासत में रखने के बाद अक्टूबर की शुरुआत में उन्हें रिहा कर दिया गया।

हिरासत से होने के कुछ दिन बाद महबूबा मुफ्ती ने बीते शुक्रवार को कहा कि जब तक जम्मू-कश्मीर को लेकर पिछले साल पांच अगस्त को संविधान में किए गए बदलावों को वापस नहीं ले लिया जाता, तब तक उन्हें चुनाव लड़ने अथवा तिरंगा थामने में कोई दिलचस्पी नहीं है। उनके इसी बयान पर भाजपा और कांग्रेस सहित अन्य दल हमलावर हैं। रिहा होने के बाद पहली बार मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि वह तभी तिरंगा उठाएंगी, जब पूर्व राज्य का झंडा और संविधान बहाल किया जाएगा।

उन्होंने कहा, ‘जहां तक मेरी बात है, तो मुझे चुनाव में कोई दिलचस्पी नहीं है। जब तक वह संविधान हमें वापस नहीं मिल जाता जिसके तहत मैं चुनाव लड़ती थी, महबूबा मुफ्ती को चुनाव से कोई लेना देना नहीं है।’ यह पूछे जाने पर कि चुनाव में हिस्सा नहीं लेने पर भाजपा को खुला रास्ता मिल जाएगा तो उन्होंने कहा कि यह एक काल्पनिक सवाल था। (इनपुट सहित)

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट