ताज़ा खबर
 

पहले चरण में 3 करोड़ लोगों को लगेगा कोरोना का टीका, दूसरे देशों से काफी सस्ती है देसी वैक्सीन, जानें कीमत

वैक्सीनेशन को लेकर देश के सामने चुनौतियां भी हैं, लेकिन टीकाकरण का अनुभव भी हिंदुस्तान को ही सबसे ज्यादा है। अभी कंपनियों ने अपनी वैक्सीन की कीमत जारी की है, लेकिन वक्त के साथ कीमत को लेकर सरकार का फैसला बदल भी सकता है।

CORONA VACCINATIONभारत बॉयोटेक का स्वदेशी टीका कोवैक्सीन।

कोरोना वायरस के खिलाफ भारत सबसे बड़ी लड़ाई की ओर कदम बढ़ा रहा है। सीरम इस्टीट्यूड वैक्सीन की पहली खेप सरकार को सौंप चुका है। भारत में 16 जनवरी से दुनिया का सबसे बड़ा कोविड-19 टीकाकरण अभियान शुरू होगा। भारत की दोनों वैक्सीन कोवीशील्ड और कोवैक्सीन दुनिया में सबसे कम है। आम आदमी तक वैक्सीन पहुंचाने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। किस वैक्सीन की कितनी कीमत है और भारत के लोगों को वैक्सीन कितने रुपये में मिलेगी।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि सबसे सस्ती वैक्सीन के साथ भारत दुनिया के लिए नजीर बनने वाला है। पीएम मोदी ने पहले ही साफ कर दिया है कि वैक्सीनेशन में कोई VIP कल्चर नहीं चलेगा। पहले हेल्थ और फ्रंटलाइन वर्कर्स को ही वैक्सीन मिलेगी। पहले चरण में 3 करोड़ लोगों को वैक्सीन फ्री मिलेगी, यानी पहले चरण में जो 3 करोड़ टीके लगेंगे, उनका खर्चा केंद्र सरकार उठाएगी। इनमें हेल्थ वर्कर्स, सफाई कर्मचारी और सैन्य बलों से जुड़े लोगों को टीका लगाया जाएगा।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने यह बयान उस दौरान दिया था जब वो कोरोना वैक्सीन के ड्राइ रन का निरिक्षण करने के लिए दिल्ली स्थित जीटीबी अस्पताल पहुंचे थे। वहां उन्होंने कहा था कि दिल्ली ही नहीं पूरे देश में कोरोना वैक्सीन फ्री में लगाई जाएगी, लेकिन अब सरकार ने उसी वैक्सीन की कीमत भी बताई है और 135 करोड़ की आबादी वाले हिंदुस्तान में तीन करोड़ लोगों को मुफ्त वैक्सीन देने का एलान किया है।

2019 में आई संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के अनुसार भारत में 37 करोड़ लोग गरीब हैं। गरीबी रेखा में जीने वालों के सामने वैक्सीन लगवाना चुनौती रहेगा। अंत्योदय अन्न योजना कार्डधारकों के लिए पैसे देना मुश्किल होगा। गांव कनेक्शन वेबसाइट ने देश के 16 राज्यों और एक केंद्रशासित प्रदेश के 6,040 लोगों के बीच सर्वे किया। इस सर्वे के अनुसार 36 फीसदी लोग ऐसे हैं जो पैसे देकर वैक्सीन लेने से साफ मना कर रहे हैं, क्योंकि वो मानते हैं वैक्सीन के लिए उनके पास पैसे नहीं हैं।

भारत, दुनिया के सबसे बड़े दवा निर्माता देशों में से एक है। वैक्सीनेशन को लेकर देश के सामने चुनौतियां भी हैं, लेकिन टीकाकरण का अनुभव भी हिंदुस्तान को ही सबसे ज्यादा है। अभी कंपनियों ने अपनी वैक्सीन की कीमत जारी की है, लेकिन वक्त के साथ कीमत को लेकर सरकार का फैसला बदल भी सकता है।

किस वैक्सीन की कितनी होगी कीमत ?
वैक्सीन————————————कीमत
कोवीशील्ड (ऑक्सफोर्ड)———————-200 रुपये
कोवैक्सीन (भारत बायोटेक)——————-295 रुपये
स्पूतनिक-वी————————————700 रुपये
फाइजर—————————————-1459 रुपये
मॉडर्ना—————————————–2700 रुपये

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बांग्लादेश में 10 साल में 80 लाख लोगों को मिला गरीबी से छुटकारा, आनंद महिंद्रा बोले, कहीं हम पड़ोसी से पीछे न रह जाएं
2 तमिलनाडु में भी बज उठा चुनावी बिगुल, पोंगल पर मोहन भागवत, नड्डा और राहुल का दौरा
3 ममता बनर्जी पढ़ रही हैं रोहिंग्या संविधान, बोले भाजपा प्रवक्ता, कहा- चार टीके लगवा लेंगी ममता बनर्जी
ये पढ़ा क्या?
X