ताज़ा खबर
 

पुरस्कार लौटाने वाले हैं भाजपा के कट्टर विरोधी तत्व: जेटली

अरुण जेटली ने पुरस्कार लौटाने वालों को ‘‘कट्टर भाजपा विरोधी तत्व’’ करार दिया और कहा कि वह अपनी इस बात पर कायम हैं कि उनका विरोध ‘बनावटी बगावत’ है..

Author पटना | October 29, 2015 8:33 PM
वित्त तथा सूचना एवं प्रसारण मंत्री अरुण जेटली। (पीटीआई फोटो)

केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली ने पुरस्कार लौटाने वालों पर अपना हमला तेज करते हुए उन्हें ‘‘कट्टर भाजपा विरोधी तत्व’’ करार दिया और कहा कि वह अपनी इस बात पर कायम हैं कि उनका विरोध ‘बनावटी बगावत’ है।

वित्त तथा सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का प्रभार संभाल रहे जेटली ने यहां संवाददताओं से कहा, ‘‘पुरस्कार लौटाने वाले लोग अन्य माध्यमों से राजनीति कर रहे हैं। उनके ट्वीट और विभिन्न सामाजिक एवं राजनीतिक मुद्दों पर उनके रुख को देखिये। आप उनमें बहुत से कट्टर भाजपा विरोधी तत्व पाएंगे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैंने उसे पहले ही बनावटी बगावत कहा था। मैं अपने उस वाक्यांश पर कायम हूं। मुझे लगता हैं कि जिस प्रकार से घटनाएं सामने आ रही है, उससे लगता है कि उस तरह का बनावटी काम तेज गति से चल रहा है।’’ उन्होंने लेखकों, फिल्म निर्माताओं एवं वैज्ञानिकों द्वारा पुरस्कार लौटाये जाने के संदर्भ में पूछे गये सवाल के जवाब में यह बात कही।

जेटली ने यह भी दावा किया कि उनमें से कई पिछले आम चुनाव में नरेन्द्र मोदी के खिलाफ प्रचार करने वाराणसी गये थे। उन्होंने कहा कि वाम का दायरा सिकुड़ा है। उन्होंने दावा किया कि जो लोग पुरस्कार लौटा रहे हैं वे एक प्रकार से बिहार चुनाव में भाजपा के खिलाफ प्रचार कर रहे हैं।

देश में असहिष्णुता का माहौल कायम होने के आरोप को खारिज करते हुए केन्द्रीय वित्त मंत्री ने कहा कि देश में सामान्य स्थिति है। जेटली ने कहा कि सभी घटनाओं को असहिष्णुता के उदाहरण के रूप में पेश किया जा रहा है तथा उन्होंने इसके लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की।

बहरहाल केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि देश में हो रही घटनाओं की गैर आनुपातिक राजनीतिक प्रतिक्रिया हो रही है। उन्होंने पुरस्कार लौटाने वाले लोगों से पूछा कि जब संप्रग शासन काल में लाखों एवं करोड़ों रुपये का भ्रष्टाचार एवं घोटाले हो रहे थे तब क्या उनकी अंतर आत्मा ने नहीं कचोटा था।

एफटीआईआई छात्रों के आंदोलन वापस लेने और शिक्षण गतिविधियों को बहाल करने का स्वागत करते हुए जेटली ने कहा कि सरकार इस संस्थान को दक्षता संस्थान बनाना चाहती है।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करेंगूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App