ताज़ा खबर
 

चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री बनेगा तो यही होगा, फ्यूल हाइक पर बोले कांग्रेस सांसद

पंजाब से कांग्रेस सांसद ने ईंधन की बढ़ती कीमतों पर पीएम नरेंद्र मोदी को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि जब मनमोहन सिंह की जगह एक ''चायवाला'' प्रधानमंत्री बनता है तो ऐसी चीजें होती हैं।

congress, BJPअंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महिलाओं के द्वारा बनाए गए उत्पाद ख़रीदे (फोटो- PTI)

कांग्रेस ने एक बार फिर से पीएम मोदी पर “चायवाला” शब्द के जरिए हमला बोला है। इस बार कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने पीएम के लिए इस शब्द का इस्तेमाल किया है। पंजाब से कांग्रेस सांसद ने ईंधन की बढ़ती कीमतों पर पीएम नरेंद्र मोदी को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि जब मनमोहन सिंह की जगह एक ”चायवाला” प्रधानमंत्री बनता है तो ऐसी चीजें होती हैं। लोगों को अब 2024 तक भुगतना पड़ेगा।

ये बयान ऐसे समय में आया है जब केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को केंद्र और राज्यों के बीच बातचीत के जरिए डीजल और पेट्रोल पर टैक्स को कम करने की बात कही। जिससे कि आम लोगों पर बोझ कम हो सके। देश के विभिन्न हिस्सों में ईंधन की बढ़ती कीमतों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किए जा रहे हैं।
कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों ने ईंधन और गैस की कीमतों में वृद्धि पर केंद्र पर निशाना साधा है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने एक अलग अंदाज में कहा कि प्रधानमंत्री की ”पिच” पर आम आदमी के लिए बहुत महंगाई है। गौरतलब है कि हाल ही में मोटेरा में क्रिकेट स्टेडियम का नाम पीएम मोदी के नाम पर रखा गया है।

उन्होंने आगे कहा कि पीएम मोदी अर्थव्यवस्था के दोनों छोर पर अपने अरबपति दोस्तों के लिए बल्लेबाजी कर रहे हैं। पिछले 10 दिनों से पेट्रोल और डीजल की कीमतें बार-बार बढ़ रही हैं और कुछ राज्यों में तो पेट्रोल की कीमत 100 रुपये के भी पार हो गई है।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है और देश के नागरिकों को ईंधन और गैस की कीमतों में बढ़ोतरी के चलते हो रही पीड़ा व्यक्त की है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ईंधन की कीमतों में तत्काल 50% की कमी लाने की मांग की। ममता बनर्जी ने कहा कि ऐसा नहीं करने पर जोरदार आंदोलन किया जाएगा। ममता ने कहा, “किसान पहले से ही सड़कों पर आंदोलन कर रहे हैं। अगर आम लोग भी सड़कों पर आते हैं, तो मोदी बाबू कुछ नहीं कर सकते। एजेंसियों के साथ काम करने से काम नहीं चलेगा।”

वहीं, महाराष्ट्र कांग्रेस प्रमुख नाना पटोले ने केंद्र में भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र सरकार को अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कम दरों के बावजूद देश भर में ईंधन की कीमतों को ऊंचा रखने के लिए “लुटेरा और डकैत” करार दिया।

Next Stories
1 व्यापारियों के गोदाम पहले बन गए, कानून बाद में बना, राकेश टिकैत ने कहा- यह राजा के खिलाफ लड़ाई
2 पश्चिम बंगाल समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव का ऐलान, जानें कब होगी वोटिंग और कब घोषित होगा परिणाम
3 ‘हम 27 हैं, वो 93 हैं, हमारा एक-एक आदमी BJP पर भारी पड़ेगा’ सूरत में केजरीवाल ने ललकारा
ये पढ़ा क्या?
X