scorecardresearch

अब कोई G-23 कैंप नहीं है-, सभी मिलकर काम करना और BJP-RSS के खिलाफ लड़ना चाहते हैं- बोले खड़गे

Mallikarjun Kharge: खड़गे ने कहा कि सभी नेता बीजेपी-आरएसएस के खिलाफ एकजुट होकर लड़ना चाहते हैं।

अब कोई G-23 कैंप नहीं है-, सभी मिलकर काम करना और BJP-RSS के खिलाफ लड़ना चाहते हैं- बोले खड़गे
कांग्रेस के अध्यक्ष पद के उम्मीदवार मल्लिकार्जुन खड़गे। (फोटो सोर्स: ANI)

Congress President Election: कांग्रेस अध्यक्ष का उम्मीदवार बनने के बाद मल्लिकार्जुन खड़गे ने रविवार (2 अक्टूबर, 2022) को कहा कि अब कोई G23 शिविर नहीं है। सभी नेता (G23 के) एकजुट रहने और भाजपा-आरएसएस के खिलाफ लड़ने के लिए मिलकर काम करना चाहते हैं। यही कारण है कि वे मेरा समर्थन कर रहे हैं।

खड़गे ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं ने कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए मेरे नामांकन का समर्थन किया है। पार्टी के कई नेताओं ने मुझसे कहा कि मुझे चुनाव लड़ना चाहिए। उन्हीं के प्रोत्साहन से मैं आज चुनाव लड़ रहा हूं। उन्होंने कहा कि उदयपुर में ‘एक व्यक्ति, एक पद’ का निर्णय हुआ था। मैंने अपना नामांकन भरने वाले दिन ही अपने पद (संसद में विपक्ष के नेता के तौर पर) से इस्तीफा दे दिया था।

उम्मीदवारों के बीच विचारों का आदान-प्रदान पार्टी के लिए फायदेमंद साबित होगा: थरूर

शशि थरूर ने रविवार को समाचार एजेंसी पीटीआई से बात करते हुए कहा कि वह उम्मीदवारों के बीच सार्वजनिक बहस के लिए तैयार हैं, क्योंकि इससे लोगों की उसी तरह से पार्टी में दिलचस्पी पैदा होगी, जैसे कि हाल में ब्रिटेन में कंजर्वेटिव पार्टी के नेतृत्व पद के चुनाव को लेकर हुई थी। उन्होंने कहा कि उम्मीदवारों के बीच विचारों का आदान-प्रदान पार्टी के लिए फायदेमंद साबित होगा।

थरूर ने आगे कहा कि कांग्रेस पार्टी के सदस्यों के दिलों में नेहरू-गांधी परिवार की हमेशा खास जगह रही है और रहेगी। कांग्रेस की मौजूदा चुनौतियों का जवाब प्रभावी नेतृत्व और संगठनात्मक सुधार के संयोजन में निहित है।

मल्लिकार्जुन खड़गे के पास कांग्रेस को मजबूत करने का अनुभव: गहलोत

इस बीच, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को सचिवालय में महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद संवाददाताओं से कहा कि मल्लिकार्जुन खड़गे के पास कांग्रेस को मजबूत करने का अनुभव है और वह पार्टी के राष्ट्रपति चुनाव में एक स्पष्ट विजेता के रूप में उभरेंगे, जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी शशि थरूर ‘कुलीन वर्ग’ के हैं।उन्होंने कहा कि खड़गे के पास एक लंबा राजनीतिक अनुभव है। उनका दिल साफ है, वह दलित समुदाय से आते हैं। खड़गे हर जगह स्वागत किया जा रहा है। गहलोत ने कहा कि थरूर भी एक अच्छे इंसान हैं और अच्छे विचार रखते हैं, लेकिन वह कुलीन वर्ग से हैं।

17 अक्टूबर को मतदान, 19 अक्टूबर को आएंगे परिणाम

बता दें, कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव को लेकर नामांकन प्रक्रिया पूरी हो गई है। झारखंड के पूर्व मंत्री के. एन. त्रिपाठी का नामांकन पत्र शनिवार को खारिज होने के बाद अब मुकाबला केवल दो उम्मीदवार शशि थरूर और मल्लिकार्जुन खड़गे के बीच होगा। मतदान 17 अक्टूबर को करवाया जाएगा और 19 अक्टूबर को परिणाम आएंगे।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 02-10-2022 at 04:00:43 pm
अपडेट