ताज़ा खबर
 

पंजाब: गुरदासपुर आतंकी हमले में एसपी समेत सात लोगों की मौत, सभी आतंकी ढेर

पंजाब के गुरदासपुर में संदिग्ध आतंकवादियों के हमले में 7 की मौत हो गई है, जबकि 8 लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं..

Author July 27, 2015 8:07 PM
घटनास्थल पर आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान मोराचा संभालते सेना के जवान। (पीटीआई फोटो)

पंजाब में आठ साल बाद पहले बड़े आतंकी हमले में, पाकिस्तान की सीमा से लगे गुरदासपुर में सेना की वर्दी पहने भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों ने आज एक चलती बस और एक पुलिस थाने पर ताबड़तोड़ गोलियां चलायीं जिसमें एक एसपी सहित सात लोग मारे गए तथा आठ अन्य घायल हो गए।

सुरक्षा बलों की तरफ से जवाबी कार्रवाई में तीनो आतंकवादियों को मार गिराया गया है । आतंकवादियों ने दीनानगर में सुबह करीब पांच बजे हमला शुरू किया। आतंकी दीनानगर थाने के बगल में एक खाली इमारत में छिपे थे ।

पुलिस ने बताया कि आतंकियों ने सात लोगों जिसमे तीन नागरिकों और पंजाब प्रांतीय सेवा के एक अधिकारी पुलिस अधीक्षक (जासूसी) बलजीत सिंह सहित तीन पुलिस पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी।

पंजाब पुलिस के आईजी (काउंटर इंटेलीजेंस) गौरव यादव के मुताबिक एसपी बलजीत सिंह ने गोलीबारी में गोली लगने के बाद दम तोड़ दिया।

पुलिस ने बताया कि गुरदासपुर के सिविल अस्पताल में लाये गये घायलों में से गंभीर रूप से घायल सात लोगों को अमृतसर भेज दिया गया। इन सभी की उम्र 15-55 साल के बीच है।

गुरदासपुर के उपायुक्त अभिनव त्रिखा ने बताया कि अभियान में तीन आतंकवादी मारे गये।

पंजाब पुलिस के महानिदेशक सुमेध सिंह सैनी ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘आतंकवादियों के पास अत्याधुनिक हथियार थे। हमने उनके पास से ‘चीन निर्मित’ ग्रेनेड बरामद किये।’’

पुलिस के मुताबिक, आतंकियों ने सबसे पहले सड़क किनारे एक ढाबे को निशाना बनाया और पंजाब के रजिस्ट्रेशन नंबर वाली सफेद रंग की मारूति 800 कार अपने साथ ले गये। उन्होंने दीनानगर बायपास के निकट सड़क किनारे एक विक्रेता को गोली मारकर उसकी हत्या कर दी।

इसके बाद, उन्होंने पंजाब रोडवेज की चलती बस में यात्रियों पर गोलियां चलाई और दीनानगर थाने के बगल में एक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को निशाना बनाया।

बंदूकधारी दीनानगर थाने में घुस गये और अंधाधुंध गोलियां चलाईं। आतंकवादियों ने परिसर के उस हिस्से में भी गोलियां चलाईं और ग्रेनेड फेंके जहां पुलिसकर्मियों के परिवार रहते हंै।

सूत्रों ने बताया कि पंजाब और जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास अलर्ट जारी किया गया है क्योंकि आतंकवादियों के वहां से घुसपैठ किये जाने की आशंका है।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से स्थिति पर बातचीत की। बाद में उन्होंने शीर्ष अधिकारियों के साथ सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की।

सिंह ने कहा कि वह इस मुद्दे पर कल संसद में बयान देंगे। संसद के सदस्यों ने आज इस मुद्दे पर सरकार से विस्तृत जवाब की मांग की थी।

दीनानगर कस्बा पाकिस्तान की सीमा से लगा है और गुरदासपुर जिले में पड़ता है। यह गुरदासपुर और पठानकोट शहरों के बीच में है और राजधानी चंडीगढ़ से करीब 260 किलोमीटर दूर स्थित है।

राज्य ने 1980 के दशक के बाद से कई वर्षों तक सिख चरमपंथ का सामना किया। पिछला आतंकवादी हमला लुधियाना में 14 अक्तूबर 2007 को हुआ था जिसमें एक सिनेमाघर में शक्तिशाली बम विस्फोट में सात लोगों की मौत हो गयी थी और 30 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे।

स्वात बल के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘मिशन सफल रहा। कठिनाइयां हमेशा होती हैं लेकिन हमारे प्रशिक्षण की मदद से हम हालात से निपटने में इन कठिनाइयों से सफलतापूर्वक उबर गये।’’

सुरक्षा एजेंसियों ने स्वतंत्रता दिवस से महज तीन सप्ताह पहले हुए आतंकवादी हमले के मद्देनजर पूरे देश में और खासतौर पर पंजाब और पड़ोसी राज्यों में तथा केंद्रशासित प्रदेश चंडीगढ़ में भी निगरानी बढ़ा दी है।

एक संबंधित घटनाक्रम में अमृतसर-पठानकोट रेलवे लाइन पर पांच बम मिले और इस मार्ग पर ट्रेन सेवाएं रद्द कर दी गयीं।

अधिकारियों ने बताया कि घटना को देखते हुए शहर में आज स्कूल, कॉलेज और अन्य संस्थानों को बंद कर दिया गया।

स्थानीय निवासी कमलजीत सिंह मथारू ने बताया कि हमलावरों ने उन पर गोलीबारी कर उनकी कार छीन ली। हमलावर सेना की वर्दी पहने हुए थे तथा भारी हथियारों से लैस थे। गोलीबारी में मथारू घायल हो गया और वह अस्पताल में भर्ती है।

मृतकों में तीन की पहचान गुलाम रसूल, आशा रानी और अमरजीत सिंह के रूप में हुई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App