scorecardresearch

दस-पंद्रह दिन पहले नीतीश ने फिर से दिया था ऑफर पर मैंने इन्कार कर दिया- बोले PK

जन सुराज यात्रा के दौराम जमुनिया में पीके ने कहा कि नीतीश कुमार की ख्वाहिश थी कि वो उनके साथ फिर से जुड़ जाए। लेकिन उनका तर्क था कि ये अब मुमकिन नहीं हो पाएगा, क्योंकि वो 35 सौ किमी लंबी यात्रा पर फोकस कर रहे हैं।

दस-पंद्रह दिन पहले नीतीश ने फिर से दिया था ऑफर पर मैंने इन्कार कर दिया- बोले PK
प्रशांत किशोर (फोटो : पीटीआई)

बिहार के सीएम नीतीश कुमार के हमकदम रहे प्रशांत किशोर की राह एक बार उनसे जुदा क्या हुई दोनों के बीच रिश्ते बेहद तल्ख हो गए। कभी नीतीश जदयू के उपाध्यक्ष रह चुके किशोर पर खफा होते दिखते हैं तो कभी चुनाव रणनीतिकार उन्हें घेरने का मौका नहीं छोड़ते। फिलहाल प्रशांत ने ये कहकर हलचल मचा दी कि नीतीश ने 10-15 दिन पहले उनसे कहा था कि वो फिर से उनके पास आकर काम संभालें। लेकिन उन्होंने मना कर दिया।

जन सुराज यात्रा के दौराम जमुनिया में पीके ने कहा कि नीतीश कुमार की ख्वाहिश थी कि वो उनके साथ फिर से जुड़ जाए। लेकिन उनका तर्क था कि ये अब मुमकिन नहीं हो पाएगा, क्योंकि वो 35 सौ किमी लंबी यात्रा पर फोकस कर रहे हैं। चुनाव रणनीतिकार ने जदयू के नेशनल प्रेजीडेंट लल्लन सिंह के उस आरोप पर भी अपना रुख स्पष्ट किया जिसमें उन्होंने कहा था कि पदयात्रा के लिए पैसा कहां से आ रहा है। पीके का कहना था कि जिन लोगों के साथ वो काम कर चुके हैं उनसे पैसा नहीं लिया।

चुनाव रणनीतिकार का कहना था कि अब वो पैसा ले रहे हैं क्योंकि उन्हें इसकी जरूरत है। उनका कहना था कि वो 10 सालों तक अपनी प्रतिभा का इस्तेमाल करके काम कर रहे थे। उन्होंने कभी दलाली नहीं की। पीके का कहना था कि उनका एक मिशन है। उसके लिए वो किसी से समझौता नहीं कर सकते। एक बार वो जिस राह पर चल निकले, उससे पीछे लौटना अब संभव नहीं है।

उधर जदयू के प्रवक्ता व एमएलसी नीरज कुमार ने प्रशांत पर वार करते हुए कहा कि वो पहले नीतीश के साथ मीटिंग से भी इन्कार कर रहे थे। जब सीएम ने इसे कंफर्म किया तो उन्होंने भी मान लिया। नीरज का कहना था कि अगर पीके को अपनी यात्रा की इतनी ही चिंता थी तो वो मीटिंग के लिए राजी कैसे हुए।

यात्रा की फंडिंग के लेकर उनका कहना था कि अखबारों और दूसरी मीडिया में जो विज्ञापन दिए जा रहे हैं उनका पैसा कहां से आ रहा है। उन्होंने तंज कस कहा कि पीके को वास्तविक तौर पर गांधी के विचारों को आत्मसात करना चाहिए न कि दिखाने के लिए।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 04-10-2022 at 07:47:23 pm
अपडेट