ताज़ा खबर
 

केरल मंदिर हादसा: गलती से किसी और का कर दिया अंतिम संस्‍कार, जिंदा लौटा अपना परिजन

प्रमोद के रिश्तेदारों ने उसे कई हॉस्पिटल में तलाशा लेकिन जब वो कहीं नहीं मिला तो उसे मृत समझकर उसके जैसे दिखने वाले किसी अन्य व्यक्ति का दाह संस्कार कर दिया।

Author कोल्लम | Updated: April 15, 2016 6:59 PM

केरल के पुत्तिंगल देवी मंदिर में हुए आग हादसे के बाद एक परिवार ने गलत व्यक्ति की लाश का दाह संस्कार अपना परिवारजन समझकर कर दिया। 29 वर्षीय प्रमोद हादसे वाली रात से ही गायब था। परिवार ने किसी अन्य व्यक्ति की लाश को प्रमोद समझकर उसका दाह संस्कार कर दिया गया। प्रमोद के जीवित होने पर परिवार ने राहत की सांस ली है। लेकिन अब प्रश्न यह है कि जिस व्यक्ति का दाह संस्कार किया गया वो आखिर कौन था।

प्रमोद की मां ने कहा वे बेहद खुश हैं कि उनका लड़का जीवित है लेकिन साथ ही उन्हें उस व्यक्ति के लिए भी बेहद दुख है जिसका दाह संस्कार गलती से उन्होंने कर दिया। जिस रात ये हादसा हुआ उस रात प्रमोद कई तरह की आतिशबाजी लेकर मंदिर की तरफ गया था। धमाके की चपेट में आकर प्रमोद मंदिर दूर जा गिरा। घायल हालत में उसे कोल्लम हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था।

प्रमोद के रिश्तेदारों ने उसे कई हॉस्पिटल में तलाशा लेकिन जब वो कहीं नहीं मिला तो उसे मृत समझकर उसके जैसे दिखने वाले किसी अन्य व्यक्ति का दाह संस्कार कर दिया। सोमवार को किए गए दाह संस्कार के अगले दिन पुलिस द्वारा जब परिवारको ये बताया गया कि प्रमोद जीवित है तो परिवार का खुशी और आश्चर्य की कोई सीमा नहीं रही। होश में आने के बाद प्रमोद ने बताया कि उसे ये भी याद नहीं है कि उसे कब और किसने हॉस्पिटल में भर्ती कराया। हादसे के चार दिन बाद भी की लोग अपने खोए हुए परिजनों की तलाश के लिए पुलिस से संपर्क कर रहे हैं। अभी भी 13 व्यक्तियों के शव हॉस्पिटल में रखे हुए हैं जिनकी अभी तक पहचान नहीं हो पाई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories