scorecardresearch

टैगोर जैसी दाढ़ी, लुंगी, पंजाबी पगड़ी, उत्‍तराखंडी टोपी के बहाने तेलंगाना सीएम ने उड़ाया पीएम मोदी का मजाक, बीजेपी ने किया पलटवार

तेलंगाना भाजपा प्रमुख और सांसद बंदी संजय ने कहा, “उनकी हताशा चरम पर पहुंच गई है, उन्होंने हमारे संविधान के निर्माता डॉ. बीआर अंबेडकर का भी अपमान किया है।”

Telangana, Budget, PM Modi
तेलंगाना के सीएम के. चंद्रशेखर राव। (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस फाइल)

तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव (KCR) ने पीएम मोदी का मजाक उड़ाते हुए मंगलवार को पूछा कि क्या अलग-अलग राज्यों में जाकर वहां की तरह के कपड़े पहनने से देश का विकास होगा। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि यह जनता को भ्रमित करने की चाल है। इससे देश में विकास नहीं होगा। उन्होंने कहा, “पश्चिम बंगाल चुनावों के दौरान उन्होंने रवींद्रनाथ टैगोर के रूप में कपड़े पहन लिए थे, तमिलनाडु में उन्होंने लुंगी पहन ली थी..क्या इससे देश के सभी हिस्सों में बिजली आ जाएगी?”

सीएम ने कहा कि मणिपुर चुनाव में वह उस राज्य की टोपी लगा लेते हैं, पंजाब चुनाव में वह एक सरदारजी की पगड़ी पहन लेते हैं, उत्तराखंड जाते हैं तो वहां की टोपी पहन लेते हैं। पूछा, “अलग-अलग राज्यों के कपड़े पहनकर टोपी लगाने से क्या कोई विकास होगा?”

उन्होंने केंद्रीय बजट को भी विकास विरोधी बताया। केसीआर ने एक बयान जारी कर कहा, ‘भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार द्वारा पेश आम बजट में कोई दिशा या इरादा नजर नहीं आता। यह एक बेकार और उद्देश्यहीन बजट है।’ उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का पूरा बजट भाषण खोखला और शब्दों की जुगलबंदी के अलावा कुछ और नहीं था।

केसीआर ने आरोप लगाया कि राजग सरकार ने बजट के माध्यम से खुद की तारीफों के पुल बांधे, जबकि हकीकत में आम आदमी को दुख और अवसाद में धकेल दिया। बजट को ‘गोलमाल बजट’ बताते हुए उन्होंने दावा किया कि इसमें तथ्यों को पेश नहीं किया गया है। केसीआर ने कहा कि बजट कृषि क्षेत्र के लिए ‘बिग जीरो’ है, क्योंकि राजग सरकार ने कृषि क्षेत्र को राहत देने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है।

भारतीय जनता पार्टी ने सीएम केसीआर की टिप्पणी पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। पार्टी ने प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के खिलाफ इस्तेमाल की गई ‘अपमानजनक’ भाषा की भी ‘कड़ी निंदा’ की है।

तेलंगाना भाजपा प्रमुख और सांसद बंदी संजय ने कहा, “उनकी हताशा एक शॉक थेरेपी है जिसे तेलंगाना के लोग जल्द ही उन्हें देने के लिए तैयार हैं। वह पागलपन भरा व्यवहार कर रहे हैं। उनकी हताशा चरम पर पहुंच गई है, उन्होंने हमारे संविधान के निर्माता डॉ. बीआर अंबेडकर का भी अपमान किया है।” भाजपा ने केसीआर के ‘नए संविधान’ का सुझाव देने पर भी नाराजगी जताई और आरोप लगाया कि यह ‘एससी और एसटी के लिए आरक्षण से इनकार’ करने की चाल है।

तेलंगाना के पूर्व सांसद कोंडा विश्वेश्वर रेड्डी ने भी केसीआर पर निशाना साधा और अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने के लिए उनको आड़े हाथ लिया। एक ट्वीट में उन्होंने कहा, “केसीआराव ने बजट पर जिस गंदी भाषा का इस्तेमाल किया, वह एक सीएम के लिए अशोभनीय है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X