ताज़ा खबर
 

चुनावों में 2 से 50 लाख रुपये तक लग रही पंचायत अध्यक्ष की बोली, गांववाले मिलकर ऐसे करते हैं फैसला

खास बात ये है कि गांववाले खुद मिलकर बोली लगाते हैं और उम्मीदवार चुनते हैं। बोली लगाने का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

पंचायत चुनाव के जरिए गांव में विकास की रुपरेखा तैयार होती है। पंचायत के सदस्यों का चुनाव गांव के मताधिकार प्राप्त व्यक्तियों द्वारा किया जाता है। भारत की पंचायती राज प्रणाली में गांव या छोटे कस्बे के स्तर पर ग्राम पंचायत या ग्राम सभा होती है। चुनाव में धनबल का इस्तेमाल और धांधली के खबरें अक्सर आती रही हैं। तमिलनाडु में पंचायत स्तर पर धनबल का खुला खेल चल रहा है। राज्य के कई गांवों में पंचायत अध्यक्ष पद के लिए बोली लगाई जा रही है। इस पद के लिए चुनावों में 2 से 50 लाख रुपये तक की बोली लग रही है।

खास बात ये है कि गांववाले खुद मिलकर बोली लगाते हैं और उम्मीदवार चुनते हैं। बोली लगाने का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। विडियो में गांव के मुखिया बोली लगाते हुए दिखाई दे रहे हैं। बोली लगाने का तरीका भी एकदम प्रोफेशनल है। इसमें सबसे ज्यादा बोली लगाने वाले की उम्मीदवार पुख्ता की जाती है। बोली लगाने वाले के खिलाफ किसी भी उम्मीदवार को खड़े न होने की हिदायत भी दी जाती है। जो सबसे ज्यादा बोली लगाता है उसे सभी का समर्थन मिलता है।

गांधीग्राम ग्रामीण संस्थान, डिंडीगुल में प्रोफेसर डॉक्टर जी पलानिथुराई इस मामले पर कहते हैं ‘तमिलनाडु में पंचायत पद पर नीलामी की व्यवस्था कोई नई नहीं है। नीलामी से मिलने वाली रकम का इस्तेमाल गांव में मंदिर के पुनर्निमाण और विकासकार्यों के लिए किया जाता है। इस तरह की नीलामी प्रक्रिया लोकतांत्रित मूल्यों और चुनावी प्रक्रिया का साफ तौर पर उल्लंघन करती है। उन्होंने इस धांधली पर राज्य चुनाव आयोग के ढीले रवैये को जिम्मेदार ठहराया है।

स्थानीय निकाय चुनावों में लोगों की भागीदारी पर अध्ययन करने वाले पलानिथुराई ने राज्य चुनाव आयोग (एसईसी) को लोकतंत्र के उल्लंघन के लिए एक ‘मूक दर्शक’ करार दिया। उन्होंने कहा कि आयोग को इस तरह की हरकतों पर नजर रखनी चाहिए और एक्शन लेना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 अरविंद केजरीवाल ने शुरू की मुफ्त वाई-फाई सेवा, अधिकारियों ने बंद करवा दिया इंटरनेट!
2 MP: गर्ल्स कॉलेज, स्कूल व हॉस्टल के बाहर लगाई गई ‘बेटी की पेटी’, जानें क्या है इसका मकसद
3 चेक बाउंस मामले में BJP विधायक को छह महीने जेल की सजा, 30 लाख रुपये जुर्माना
ये पढ़ा क्या?
X