ताज़ा खबर
 

गुटखा स्‍कैम: CBI ने 40 जगहों पर एकसाथ मारा छापा, DGP के ठिकानों पर भी रेड

साल 2016 में तमिलनाडु में गुटखा स्कैम का खुलासा हुआ था। इस घोटाले में पुलिस के कई आला अधिकारियों और मंत्रियों के नाम भी सामने आए थे।

तमिलनाडु के गुटखा स्कैम में सीबीआई की छापेमारी। (express photo)

तमिलनाडु के चर्चित गुटखा स्कैम मामले में आज सीबीआई ने चेन्नई में एक साथ 40 ठिकानों पर छापा मारा है। तमिलनाडु के डीजीपी टीके राजेंद्रन को मोगप्पेयर स्थित आवास, पूर्व डीजीपी एस. जॉर्ज के मदुरावॉयल स्थित आवास, स्वास्थ्य मंत्री सी. विजय भास्कर और अन्य कई पुलिसकर्मियों के आवास पर सीबीआई द्वारा छापेमारी की गई है। बता दें कि साल 2016 में तमिलनाडु में गुटखा स्कैम का खुलासा हुआ था। इस घोटाले में पुलिस के कई आला अधिकारियों और मंत्रियों के नाम भी सामने आए थे। इस मुद्दे पर हंगामे और राज्य के पुलिस अधिकारियों के इसमें शामिल होने के आरोपों के चलते मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी गई थी। ताजा छापेमारी भी उसी जांच का हिस्सा माना जा रहा है।

क्या है गुटखा स्कैमः साल 2013 में तमिलनाडु में गुटखों की बिक्री पर रोक लगा दी गई थी। जिसके बाद तमिलनाडु के गुटखा ब्रांड MSM के मैन्यूफैक्चरर्स ने कथित तौर पर तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री, कई शीर्ष पुलिस अधिकारियों समेत केन्द्रीय और प्रदेश स्तर के कई विभागों को करोड़ो रुपए की रिश्वत देने का मामला सामने आया था। यह रिश्वत साल 2014 से 2016 तक गुटखों के बाजार में चलन, मैन्यूफैक्टरिंग और स्टोरेज को सुनिश्चित करने के उद्देश्य से दी गई थी। इस घोटाले का खुलासा साल 2017 में हुआ, जब इन्कम टैक्स डिपार्टमेंट ने MDM गुटखा ब्रांड के मालिकों के घर पर छापेमारी की।

छापेमारी के दौरान आईटी डिपार्टमेंट को ऐसे कागजात बरामद हुए, जिनमें 2 सालों के दौरान राज्य के स्वास्थ्य मंत्री, डीजीपी और अन्य अधिकारियों को करीब 39.91 करोड़ रुपए की रिश्वत देने का खुलासा हुआ। घटना के खुलासे के बाद राज्य सरकार ने कथित तौर पर इस मामले में कोई ठोस कारवाई नहीं की। जिसके बाद विपक्षी पार्टियों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की डिमांड पर मद्रास हाईकोर्ट ने मामले की जांच सीबीआई को सौंपने का आदेश दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App