ताज़ा खबर
 

चेन्नईः प्रीतिका ने जीती कानूनी जंग, बनेंगी देश की पहली ट्रांसजेंडर सब इंस्पेक्टर

मद्रास हाईकोर्ट ने अपना फैसले सुनाते हुए चेन्नई की रहने वाली 25 साल की प्रीतिका यशिनी को काबिल सब इंस्पेक्टर घोषित किया।

मद्रास हाईकोर्ट ने अपना फैसले सुनाते हुए चेन्नई की रहने वाली 25 साल की प्रीतिका यशिनी को काबिल सब इंस्पेक्टर घोषित किया। लिहाजा अबवस जल्द ही प्रीतिका अपना पदभार संभालने का अप्वाइंटमेंट लेटर मिलेगा। आपको बता दें कि कोर्ट ने भर्ती बोर्ड को निर्देश दिया है कि वे नियमों में जरूरी बदलाव करें ताकि पुलिस में ट्रांसजेंडर्स की तादाद बढ़ाई जा सके। गौरतलब है कि पृथिका यशिनी का जन्म और पालन पोषण प्रदीप कुमार के तौर पर हुआ। कम्प्यूअर एप्लिकेशन में स्नातक करने के बाद उनकी सेक्स बदलने के लिए सर्जरी हुई और वे प्रदीप से पृथिका बन गईं।

pratik3

लेकिन बाद में सब इंस्पेक्टर बनने के उनके आवेदन को पुलिस भर्ती बोर्ड ने खारिज कर दिया था। क्योंकि उनका नाम और ओरिजिनल सर्टिफिकेट्स मेल नहीं खाते थे। साथ ही भर्ती के फॉर्म में थर्ड जेंडर की कैटेगिरी नहीं थी। ट्रांसजेंडर्स के लिए कोटा, कंसेशनल कट ऑफ, फिजिकल परीक्षा या इंटरव्यू की व्यवस्था भी नहीं थी।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 7 Plus 32 GB Black
    ₹ 59000 MRP ₹ 59000 -0%
    ₹0 Cashback
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 16010 MRP ₹ 16999 -6%
    ₹0 Cashback

तमिलनाडु यूनीफॉर्म्ड सर्विसेज रिक्रूटमेंट बोर्ड (टीएनयूएसआरबी) ने 8 फरवरी को सब इंस्पेक्टर के 1087 पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरु की। चयन के तीन चरण थे, लिखित परीक्षा, शारीरिक परीक्षा और इंटरव्यू। इसके बाद 1 लाख 85 हजार उम्मीदवारों ने फॉर्म भरा था, जिसमें से एक प्रीतिका का नाम भी शामिल था, लेकिन टीएनयूएसआरबी ने उनके आवदेन को अस्वीकार कर दिया। क्योंकि रजिस्ट्रेशन फॉर्म में उनका नाम मेल-फीमेल श्रेणी में नहीं था।

pratika

इसके बाद से प्रीतिका ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया, जिस पर कोर्ट ने उनको लिखित परीक्षा में बैठने की अनुमति दे दी। कोर्ट ने अपने अंतरिम आदेश में कहा कि याचिकाकर्ता को चयन प्रक्रिया के सभी चरणों को पूरा करना होगा। लेकिन अंतिम चरण में टीएनयूएसआरबी ने कई कारण बताते हुए पृथिका का चयन करने से इनकार कर दिया। उनका कहना था कि पृथिका शारीरिक परीक्षा में फेल हो गई है। इस पर वह फिर हाईकोर्ट पहुंची।

इसके बाद हाईकोर्ट ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के बावजूद बोर्ड आवदेन पत्र में तीसरे जेंडर की श्रेणी को उपलब्ध कराने में असफल रहा है। कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता सब इंस्पेक्टर पद पर नियुक्ति के लिए काबिल हैं और पुलिस में जॉब करने का अधिकार रखती हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App