ताज़ा खबर
 

VIDEO: मंदिर जा रहे मंत्री ने आदिवासी लड़के को बुला उतरवाई अपनी चप्पलें, विवाद पर बोले- वह तो मेरे पोते जैसा था

श्रीनिवासन यहां से 40 किलोमीटर दूर मुदुमलाई बाघ अभयारण्य में हाथी शिविर का उद्धाटन करने आए थे।

तमिलनाडु के वन मंत्री डिंडीगुल श्रीनिवासन ने मंदिर में प्रवेश करने के लिए जंगल में मौजूद एक आदिवासी बच्चे से अपनी चप्पल उतरवाई।(फोटो-सोशल मीडिया)

तमिलनाडु के वन मंत्री डिंडीगुल श्रीनिवासन बृहस्पतिवार को उस समय विवादों में घिर गए जब उन्होंने यहां थेप्पाकाडु में एक हाथी शिविर के उद्घाटन के दौरान एक आदिवासी लड़के से अपनी चप्पल उतरवाए। श्रीनिवासन का वह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया जिसमें आदिवासी लड़का उनके चप्पल उतारते दिखाई दे रहा है। इस वीडियो के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर कई लोगों ने इस घटना को लेकर नाराजगी जाहिर की।

श्रीनिवासन यहां से 40 किलोमीटर दूर मुदुमलाई बाघ अभयारण्य में हाथी शिविर का उद्धाटन करने आए थे। वह जब जिला कलेक्टर और अन्य अधिकारियों के साथ शिविर की ओर बढ़ रहे थे, तभी उन्होंने एक आदिवासी लड़के को बुलाया और उससे उनके चप्पल उतारने को कहा ताकि वह मंदिर में जाकर पूजा कर सकें।

लड़के ने सभी की मौजूदगी में मंत्री के चप्पल उतारे।यह स्पष्ट नहीं है कि श्रीनिवासन ने लड़के से अपने चप्पल क्यों उतरवाए। इस घटना को लेकर सोशल मीडिया पर मंत्री की काफी आलोचना हो रही है और लोग उनके खिलाफ एससी/एसटी कानून के तहत कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।

वन मंत्री का इस विवाद पर कहना है कि ऐसा करने के पीछे उनका कोई गलत मकसद नहीं था। वह लड़का तो मेरे पोते जैसा है। हालांकि कि इस विवाद पर मंत्री की सहयोगी पार्टी बीजेपी भी इस घटना से खफा नजर आ रही है।

भाजपा के प्रवक्ता नारायण थिरुपाथी ने कहा, ” उन्होंने कहा कि यह एक अभिमानी और गैरजिम्मेदार है”। उन्हें माफी मांगनी चाहिए। थिरुपथी ने कहा, “हमें इसे प्रोत्साहित नहीं करना चाहिए। मंत्रियों को एक उदाहरण स्थापित करना चाहिए।”

(भाषा इनपुट्स के साथ)

Next Stories
1 Delhi Elections: आचार संहिता उल्लंघन पर अब योगी आदित्यनाथ को EC का नोटिस, बोला था- शाहीन बाग में केजरीवाल बंटवा रहे बिरयानी
2 Delhi Elections: मनोज तिवारी ने राहुल गांधी को बताया मंदबुद्धि, अरविंद केजरीवाल को कहा- कांइया; एंकर को ‘उदाहरण’ भी दिखाया
3 PM नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस को चेताया- हमारे पास UPA का भी NPR रिकॉर्ड, क्यों फैला रहे हैं झूठ?
ये पढ़ा क्या?
X