ताज़ा खबर
 

तमिल मछुआरों के मुद्दे को सुलझाने की जरूरत है, विक्रमसिंघे ने कहा

विक्रमसिंघे ने कहा, ‘दोनों तरफ के मछुआरे तमिल हैं। विवाद जल क्षेत्र को लेकर है, जहां तमिल मछुआरे मछली पकड़ते हैं।'

Author नई दिल्ली | October 6, 2016 8:41 PM
नई दिल्ली स्तित हैदराबाद हाउस एक-दूसरे से हाथ मिलाते श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे और भारत में उनके समकक्ष नरेंद्र मोदी। (REUTERS/Altaf Hussain/5 Oct, 2016)

तमिल मछुआरों के मद्दे को सुलझाने की जरूरत पर बल देते हुए श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने गुरुवार (6 अक्टूबर) को कहा कि जब तक कोई समाधान नहीं निकल आता है तब तक देश के मछुआरों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने वाले विक्रमसिंघे ने कहा कि उन्होंने अपने भारतीय समकक्ष के समक्ष इस मुद्दे को उठाया है और वह इस बारे में संबंधित मंत्रियों की बैठक के आयोजन के बारे में योजना बना रहे हैं। श्रीलंका के अधिकारियों द्वारा तमिलनाडु के मछुआरों को हिरासत में लिया जाना और उनकी नौकाओं को जब्त करना राज्य में एक संवेदनशील राजनीतिक मुद्दा रहा है।

विक्रमसिंघे ने यहां कहा, ‘दोनों तरफ के मछुआरे तमिल हैं। विवाद जल क्षेत्र को लेकर है, जहां तमिल मछुआरे मछली पकड़ते हैं। अमूमन हम उन्हें (भारतीय मछुआरों को) हिरासत में नहीं रखते और मेरे यहां आने से पहले कुछ को रिहा किया गया था। हम लोगों ने किसी को नहीं रखा है लेकिन हम लोगों को एक समाधान निकालना है और ऐसा होना है अन्यथा श्रीलंका में बहुत सी समस्याएं होंगी।’ वह एक सवाल का जवाब दे रहे थे जिसमें पूछा गया था कि तमिल मछुआरों से जुड़े सभी मसलों को सुलझा लिया गया है या नहीं। भारत आर्थिक शिखर सम्मेलन से इतर एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान उन्होंने यह बात की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App